मेरा... वतन हिंदुस्तान | Independence Day special - Yasmeen Bohra

मेरा... वतन हिंदुस्तान | Independence Day special - Yasmeen Bohra

आशियाना बना लूँ चाहे कहीं दूर अपने वतन से... पर मोहब्बत न करेगा दिल किसी और गगन से...

 
मेरा... वतन हिंदुस्तान | Independence Day special - Yasmeen Bohra
by: Yasmeen Bohra

मुझे मोहब्बत है अपने वतन हिंदुस्तान से,

जाना जाता है जो अपने अमन से,

फैले है जिसके गुल पूरे चमन में,

मुझे मोहब्बत है उस अहले वतन से।।

सजाया है खुद को जिसने जाति के रंगों से,

सिखाता है जो आपस में मिलकर रहना,

और मोहब्बत करना भरी उमंगो से,

मुझे मोहब्बत है उस अहले वतन से।।

आशियाना बना लूँ चाहे कहीं दूर अपने वतन से,

पर मोहब्बत न करेगा दिल किसी और गगन से,

बसी है रूह, इक जान और माँ-बाप इसी वतन में,

मुझे मोहब्बत है उस अहले वतन से।।

इक नज़र देखूं जो उत्तर से दक्षिण तक,

या देखूं अगर पूरब से पश्चिम तलक,

कई रंग मिलेंगे कदम-कदम,

और ये कदम मिलेंगे संग-संग,

मुझे मोहब्बत है उस अहले वतन से,

जाना जाता है हिंदुस्तान जो अपने अमन से।।

Yasmeen Bohra belongs to Udaipur and is a resident of Kuwait

 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  WhatsApp |  Telegram |  Signal