मार्च के सेकंड वीक में प्रभावित रह सकता है बैंको का कामकाज

मार्च के सेकंड वीक में प्रभावित रह सकता है बैंको का कामकाज 
 

होली के त्यौहार, बैंक कर्मचारियों की प्रस्तावित हड़ताल और सेकंड सैटरडे और सन्डे बनी वजह 
 
मार्च के सेकंड वीक में प्रभावित रह सकता है बैंको का कामकाज
चेक क्लीयरिंग से लेकर नकदी तक की हो सकती है किल्लत

उदयपुर। आगामी मार्च माह के दुसरे सप्ताह में लगातार 8 दिनों, 8 मार्च से 15 मार्च तक बैंकों का कामकाज खासा प्रभावित रह सकता है। कारण 8 मार्च को रविवार, 9-10 को होली का त्यौहार की वजह से उत्तर भारत के ज़यादातर राज्यों में दो दिन की बैंक हॉलिडे है। हालाँकि निजी और सहकारी बैंको में सिर्फ धुलंडी (10 मार्च) की ही छुट्टी है। उसके बाद 11 से 13 मार्च तक प्रस्तावित सरकारी बैंक कर्मचारियों की हड़ताल, 14 मार्च को माह का दूसरा शनिवार और 15 मार्च को रविवार होने के कारण बैंक बंद रहेंगे।   

होली के त्यौहार, सेकंड सैटरडे, सन्डे और सरकारी बैंकों की यूनियन बैंक एंप्लॉयी फेडरेशन ऑफ इंडिया (BEFI) और ऑल इंडिया बैंक एंप्लॉयी असोसिएशन (AIBEA)  ने अपनी मांगों को लेकर प्रस्तावित (11-13 मार्च) देशव्यापी हड़ताल कर की वजह से मार्च के दूसरे हफ्ते में बैंको का कामकाज खासा प्रभावित रह सकता है।

चेक क्लीयरिंग से लेकर नकदी तक की हो सकती है किल्लत

मार्च के दूसरे हफ्ते में लगातार 8 दिन तक उपरोक्त कारणों से बैंकों में काम बंद रहने का असर व्यापार और घरेलू कामों में पड़ सकता है। मसलन, मार्च के दूसरे हफ्ते में चेक भुनाने का कोई काम मुश्किल होगा। इसके अलावा बैंकों से नकदी निकालने या जमा करने का काम भी प्रभावित रहेगा। अक्सर देखा जाता है की वीकेंड में एटीएम से नकदी की किल्लत लगभग सभी उपभोक्ताओं को परेशान करती है। 

इस वजह से हो रही है बैंक कर्मचारियों की हड़ताल 

सरकारी बैंक कर्मचारी अपनी सैलरी की मांग को लेकर हड़ताल में जा रहे हैं। दरअसल हर पांच साल में बैंक कर्मचारियों और अधिकारियों की सैलरी रिवाइज होती है। इन नियम के तहत सरकार ने 2012 में तो सैलरी रिवाइज किया था लेकिन उसके बाद इस पर कोई कदम नहीं उठाया गया है। बैंक यूनियनों ने सरकार से दो विकली ऑफ की मांग भी की थी। लेकिन इस मांग को भी पूरा नहीं किया गया है। इसीलिए बैंक कर्मचारियों ने एक बार फिर हड़ताल करने का फैसला किया है।  

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  WhatsApp |  Telegram |  Signal