हिंदुस्तान जिंक अमेरिका स्थित कंपनी को प्राथमिकता से करेगा जिंक बैटरी की आपूर्ति


हिंदुस्तान जिंक अमेरिका स्थित कंपनी को प्राथमिकता से करेगा जिंक बैटरी की आपूर्ति

जिंक बैटरी विकसित करने के लिए हिंदुस्तान जिंक और अमेरिका स्थित एईएसआईआर टेक्नोलॉजीज ने किया एमओयू

 
HZL
UT WhatsApp Channel Join Now

उदयपुर, 21 जून 2024। वर्तमान में वैश्विक ऊर्जा परिवर्तन को बढ़ावा देने के अपने प्रयासों के तहत, भारत की सबसे बड़ी और विश्व की दूसरी सबसे बड़ी जिंक उत्पादक कंपनी हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड ने अग्रणी जिंक बैटरी प्रौद्योगिकियों में विशेषज्ञता रखने वाली अमेरिका स्थित कंपनी एईएसआईआर टेक्नोलॉजीज, आइएनसी. के साथ एमआयू पर हस्ताक्षर किए हैं। 

इस एमओयू के तहत हिंदुस्तान जिंक एईएसआईआर टेक्नोलॉजीज को जिंक की प्राथमिकता से आपूर्ति करेगा जो कि आने वाली पीढ़ी की बैटरियों के लिए एक प्रमुख राॅ मैटेरियल है। जिंक आधारित बैटरियां अन्य आधुनिक ऊर्जा भंडारण समाधान के लिए आकर्षक विकल्प प्रदान करती हैं, जो न्यूनतम रखरखाव और 20 साल तक के लंबे जीवनकाल के साथ कम लागत की वजह से औद्योगिक क्षेत्र में पंसदीदा विकल्प है।

यह एमओयू स्वच्छ ऊर्जा की ओर अग्रसर होने में जिंक के उभरते अनुप्रयोगों की खोज की दिशा में हिंदुस्तान जिंक के प्रयासों के अनुरूप है। जिंक बैटरियां अपने संक्षारण प्रतिरोध, कम लागत, पुनर्चक्रण, स्थिरता और पर्यावरण मित्रता के कारण ऊर्जा भंडारण में क्रांति ला रही हैं। यह अन्य धातुओं की तुलना में व्यापक तापमान सहनशीलता और लंबी अवधि 3-72 घंटे के लिए विश्वसनीय बैकअप पावर प्रदान करती हैं। साथ ही गैर-ज्वलनशील सामग्रियों, हवा और पानी के प्रति गैर-प्रतिक्रियाशील, और किसी प्रकार का हानिकारक धुआं नहीं छोड़ती हैं, जिससे अधिक सुरक्षा सुनिश्चित होती है। 

इसके अतिरिक्त, जिंक-आधारित बैटरियां पुनर्चक्रण योग्य, गैर-खतरनाक कच्चे माल का उपयोग करती हैं, और अन्य तकनीकों की तुलना में ग्रीनहाउस गैस का फुटप्रिन्ट छह गुना कम होता है। एईएसआईआर की निकेल जिंक बैटरियां उच्च-स्तरीय रक्षा क्षेत्र, एयरोस्पेस और समुद्री सहित, नवीकरणीय ऊर्जा और डेटा सेंटर और 5जी टेलीकॉम आदि के लिए महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचे में भरोसेमंद और सफल साबित हुई हैं। लाइव स्थानों पर दशकों के निरंतर सुधार ने एईएसआईआर की एनआईजिं़क बैटरियों को इलेक्ट्रोलाइट ड्राई-आउट, मेटल ब्रांचिंग (डेंड्राइट ग्रोथ) और जिंक माइग्रेशन जैसी पुरानी समस्याओं को खत्म करने में सक्षम बनाया है।

इस अवसर पर हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरुण मिश्रा ने कहा कि, “जिं़क कम कार्बन वाले भविष्य का अभिन्न अंग है। हिंदुस्तान जिंक में, हमारा ध्यान उन अनुप्रयोगों के लिए स्थायी रूप से धातुओं का उत्पादन करना है जो चल रहे वैश्विक ऊर्जा संक्रमण को शक्ति प्रदान करते हैं। एईएसआईआर टेक्नोलॉजीज के साथ यह साझेदारी उभरते स्वच्छ प्रौद्योगिकी क्षेत्र में हमारे चल रहे विकासात्मक कार्य में एक और महत्वपूर्ण कदम है। अत्याधुनिक ऊर्जा भंडारण के लिए उच्च गुणवत्ता वाला जिंक प्रदान कर, हम हरित भविश्य के लिए पर्यावरण के अनुकूल समाधानों के लिए परिष्कृत नए रास्ते खोल रहे हैं।”

एईएसआईआर टेक्नोलॉजीज के सीईओ और सह-संस्थापक रैंडी मूर ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि, हिंदुस्तान जिंक के साथ साझेदारी हमारी मूल्य श्रृंखला की स्थिरता पर केंद्रित हैं, और वे इस क्षेत्र में अग्रणी कंपनी हैं। ऊर्जा भंडारण ऊर्जा संक्रमण क्षेत्र में हर प्रमुख नवाचार में सबसे आगे है। जिंक बैटरी ऊर्जा भंडारण के बारे में सबसे अच्छा प्रयोग है। हम इस क्षेत्र में बेहतरीन नवाचार कर रहे हैं एवं हिंदुस्तान जिंक के साथ यह सहयोग हमें अगली पीढ़ी की निकल जिंक बैटरी के विकास के लिए महत्वपूर्ण कच्चा माल प्रदान करता है।

दुनिया बैटरी उद्योग में तेजी से विकास देख रही है, जो स्थायी ऊर्जा भंडारण समाधानों की एक महत्वपूर्ण आवश्यकता से प्रेरित है। ब्लूमबर्ग एनईएफ की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार वैश्विक ऊर्जा भंडारण बाजार 21 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि के अनुमानों के साथ आगे की ओर बढ़ रहा है, जो 2030 तक 442 जीडब्ल्यूएच तक पहुंच जाएगा।

यह अभूतपूर्व सहयोग उभरती हुई स्वच्छ प्रौद्योगिकियों के विकास के लिए महत्वपूर्ण राॅ मैटेरियल का सक्रिय योगदानकर्ता बनकर वैकल्पिक ऊर्जा समाधानों की बढ़ती मांग को पूरा करने में हिंदुस्तान जिंक की महत्वपूर्ण भूमिका को दर्शाता है। जैसे-जैसे दुनिया हरित भविष्य की ओर बढ़ रही है, हिंदुस्तान जिंक और एईएसआईआर टेक्नोलॉजीज के बीच यह सहयोग नवीन ऊर्जा भंडारण समाधानों के लिए दूरगामी निहितार्थों को दर्शाता है, जो एक सुरक्षित, स्वच्छ और अधिक सस्टेनेबल भविष्य की प्रतिबद्धता दोहराता है।
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal