प्रशासन ने भगवान जगन्नाथ स्वामी रथयात्रा मार्ग पर कर्फ्यू में दी ढील, शेष जगह यथावत रहेगा कर्फ्यू

प्रशासन ने भगवान जगन्नाथ स्वामी रथयात्रा मार्ग पर कर्फ्यू में दी ढील, शेष जगह यथावत रहेगा कर्फ्यू

रथयात्रा आयोजक व प्रबुद्धजनों की बैठक में कानून एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील

 
Bhagwan Jagannath Rath Yatra 2022 as planned in Udaipur

उदयपुर, 30 जून। आज गुरुवार शाम हुई वरिष्ठ पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों एवं भगवान जगन्नाथ रथयात्रा आयोजकों व प्रबुद्धजनों के बीच हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया की शहर में कर्फ्यू हालातों के बीच पूर्ण अनुशासन के साथ भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा का आयोजन होगा।

"कोरोना महामारी के कारण गत दो वर्षों तक जगन्नाथ रथयात्रा आयोजित नहीं किया जा सका था, अब हमारे सामने महामारी नहीं है तो इसे पूरी श्रद्धा और भावों के साथ पूरे उत्साह से आयोजित करें परंतु हम सभी यह देखें कि इसका आयोजन हो, साथ ही कानून एवं शांति व्यवस्था भी बनी रहे।"बैठक में की गई अपील

बैठक में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक जंगा श्रीनिवास व दिनेश एमएन, संभागीय आयुक्त राजेन्द्र भट्ट, डीआईजी राजेन्द्र गोयल, आईजी हिंगलाजदान, जिला कलक्टर ताराचंद मीणा, एसपी मनोज कुमार व सुधीर जोशी ने मौजूद प्रबुद्धजनों के साथ रथयात्रा के मार्ग और इसकी विविध परंपराओं व गतिविधियों के संबंध में विस्तृत विचार विमर्श किया।

Jagannath Rath Yatra Udaipur 2022

इस दौरान अवगत कराया गया कि श्री रथ समिति की ओर से उदयपुर शहर में शुक्रवार को भगवान जगन्नाथ स्वामी रथयात्रा के आयोजन किया जाएगा। उदयपुर शहर के वर्तमान हालात को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा रथयात्रा के मार्ग पर कर्फ्यू में ढील देने की घोषणा की गई और बताया गया कि शहर में शेष स्थानों पर यथावत कर्फ्यू लगा रहेगा। अधिकारियों ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम के साथ सभी धर्मप्रेमियों से साम्प्रदायिक सौहार्द्र की भावना बनाए रखते हुए कानून व शांति व्यवस्था की पालना के साथ कार्यक्रम आयोजित करने को कहा।

जंगा श्रीनिवास ने रथयात्रा के दौरान कानून व शांति व्यवस्था में समन्वय स्थापित करनेे के लिए स्वयंसेवकों की सूची उपलब्ध कराने की बात कही और यात्रा को निर्विघ्न संपन्न कराने के लिए इस कार्य में सभी का सहयोग देने का आह्वान किया।

अधिकारियों ने बताया कि सुरक्षा की दृष्टि से विशेष सतर्कता बरतने के साथ ही निर्धारिट रूट पर पर्याप्त जाप्ता लगाया जाएगा वहीं ड्रोन से निगरानी की व्यवस्था भी की जा रही है। अधिकारियों ने स्थानीय जनप्रतिनिधियों, प्रबुद्धजनों, आयोजन से जुड़े प्रतिनिधियों, संगठनों, श्री रथ समिति के सदस्यों एवं युवाओं से इस आयोजन को सफल बनाने में अपेक्षित सहयोग प्रदान करने की अपील की गई है।

इन विषयों पर हुई चर्चा

राज्य में डीजे पर प्रतिबंध के कारण इस रथ यात्रा में सर्वसम्मति से 4 बैण्डों की अनुमति प्रदान की गई वहीं रथयात्रा में अलग-अलग समाजों द्वारा विभिन्न प्रकार की 15 झांकियों को भी निकाला जाएगा। इसी प्रकार आयोजकों के आग्रह पर विभिन्न 15 स्थानों पर श्रद्धालुओं द्वारा आरती भी की जाएगी।

बैठक में उप महापौर पारस सिंघवी, रथयात्रा व रथ निर्माण संयोजक डॉ. प्रदीप कुमावत, दिनेश मकवाना व अन्य जनों ने विचार व्यक्त किए। इस दौरान जिला परिषद सीईओ मयंक मनीष, एडीएम ओपी बुनकर व प्रभा गौतम, गिर्वा एसडीएम सलोनी खेमका सहित अन्य संबंधित विभागीय अधिकारी मौजूद थे।

मुस्लिम समुदाय के प्रबुद्धजनों की बैठक भी हुई

शहर में सांप्रदायिक सौहार्द बनाए रखने की दृष्टि से आज सुबह जिला परिषद सभागार में ही मुस्लिम समुदाय के प्रबुद्धजनों की बैठक आयोजित की गई और वर्तमान हालातों को देखते हुए शहर की शांति परंपरा को बरकरार रखने के लिए समन्वित सहयोग का आह्वान किया गया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal