उदयपुर में धूमधाम से मनाया गया होली का पर्व

उदयपुर में धूमधाम से मनाया गया होली का पर्व 

लोगो ने एक दूसरे पर गुलाल फेंका तो वहीँ एक दुसरे को पानी से भी भिगोया

 
Holi

उदयपुर, 26 मार्च। झीलों की नगरी उदयपुर में कल सुबह शहरवासियों ने धुलंडी के अवसर पर हाथों में गुलाल लेकर एक-दूसरे को रंग लगाते हुए होली का त्यौहार हर्षोल्लास के साथ मनाया। शहर से लेकर गांव गांव एवं गली-मोहल्लों, कॉलोनियों से लेकर सोसायटी हर एक स्थान पर लोगो ने गुलाल, अबीर, रंगो और पानी के साथ रंगोत्सव मनाया ।

holi

उदयपुर के जगदीश चौक में होली की मस्ती शुरू हो गई। वहां पर असम के राज्यपाल कटारिया से लेकर शहर के छोटे-बड़े सभी लोगो ने होली का हुड़दंग मचाया। लोगो ने एक दूसरे पर गुलाल फेंका तो वहीँ एक दुसरे को पानी से भी भी भिगोया।

नारायण सेवा संस्थान में दिव्यांगों ने खेली होली

नारायण सेवा संस्थान में पारम्परिक होली का पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाया गया। देश के विभिन्न राज्यों से आए दिव्यांगों और उनके परिजनों ने ढोल - नगाड़े बजाते हुए संस्थान के बड़ी और हिरण मगरी से. 4 मानव मंदिर प्रांगण में होलिका दहन और गुलाल की जमकर होली खेली।

aa

संस्थान संस्थापक पूज्य कैलाश मानव, सहसंस्थापिका कमला देवी, अध्यक्ष प्रशांत अग्रवाल, निदेशक वंदना अग्रवाल के सानिध्य में दिव्यांगों ने गुलाल- अबीर लगाकर एक-दूसरे को मिठाईयाँ बांटी। इस मौके पर उपस्थित संस्थान साधकों ने जमकर गुलाल उड़ाई और झूमते हुए एक दूसरे को बधाईयाँ दी।

सिन्धी समाज का शोक होली मिलन कार्यक्रम हुआ

सिंधी बिलोची समाज का सामूहिक शोक निवारण होली मिलन कार्यक्रम 25 मार्च को गत वर्ष की भांति इस वर्ष भी शहर के समस्त सिंधी बिलोची समाज का सामुहिक शोक मिलन कार्यक्रम सोमवार को शक्तिनगर स्थित बिलोचिस्तान भवन के बाहर मनाया गया ।

श्री बिलोचिस्तान पंचायत के अध्यक्ष नानकराम कस्तूरी ने बताया कि पहले के टाइम में समाज के पदाधिकारी व अन्य शोक संप्तम परिवारों को घर-घर जाकर होली शोक निवारण करते थे, परंतु करीब 30 साल पहले उदयपुर की समस्त सिन्धी पंचायतों की बैठक रख यह निर्णय लिया गया कि उदयपुर मे समाज के लोग अलग-अलग जगह पर रहने के कारण जिससे घर घर जाकर शोक निवारण होली करना संभव नहीं हो पा रहा है। इस कारण से सभी सिन्धी पंचायतो की सहमति से शक्ति नगर स्थित बिलोचिस्तान भवन के बाहर सामूहिक शोक निवारण होली कार्यक्रम का आयोजन रखने का निर्णय हुआ इसमें सभी सिंधी पंचायतों के समाज जन आये। 

f

श्री बिलोचिस्तान पचांयत के महासचिव विजय आहुजा ने बताया कि कार्यक्रमानुसार प्रात: 8 बजे से 8.30 बजे तक शोक संतप्त परिवारों के सदस्य कतारबद अपने अपने स्थान पर बैठ गये, प्रात: 9 बजे से शुभ मुहुर्त मे असम राजपाल महामहिम माननीय गुलाबचंद कटारिया, भाजपा जिलाध्यक्ष रविन्द्र श्रीमाली, कांग्रेस प्रत्याशी ताराचंद मीणा, भाजपा प्रत्याशी मन्ना लाल रावत द्वारा एवं समाज की पचांयतों के पदाधिकारीयो एवं समाज के अन्य समाजजन द्वारा कतारबद चल कर समाज गुरुजी शैलेश कुमार ब्रिजवानी व शोक संतप्त परिवारों के सदस्यों को हर्बल गुलाल  लगाकर शोक निवारण करके कार्यक्रम प्रारंभ किया । 

इस अवधी में भजन एवं कीर्तन प्रसारित हुए, इसके बाद सभी एक दूसरे को गुलाल लगा कर होली मनाई गई, इसके पश्चात प्रसाद वितरित किया गया। सनातन धर्म सेवा समिति के हेमन्त गखरेजा ने बताया कि गत 30 वर्षो से समाज का सामुहिक शोक निवारण होली मिलन कार्यक्रम आयोजित हो रहा है जिसमे शहर का समस्त सिंधी बिलोची समाज एकत्रित होते हैं जिसकी सारी व्यवस्था पूज्य बिलोचिस्तान पंचायत व श्री सनातन धर्म सेवा समिति द्वारा होती है। 

सेवा समिति के नरेंद्र कथूरिया  ने बताया कि महिलाओं का होली शोक मिलन सामुहिक कार्यक्रम शनिवार 23 मार्च को बिलोचिस्तान भवन शक्ति नगर में सायंकाल 4.30 से 5.30 बजे तक हुआ। 

सेक्टर 9 उदयपुर -धूमधाम से मनाई धूलंडी

पूरे भारत वर्ष में सोमवार को धूमधाम से धूलंडी मनाईं वहीं सी ब्लॉक, सेक्टर 9 उदयपुर के महिला पुरूष ने हर्बल गुलाल, विभिन्न रंगों, फुलों से एवं होली के गीतों के साथ होली के खुब ठुमके लगाए। नरेश पूर्बिया ने बताया कि महिला पुरूष टोली बनाकर घर घर जाकर रंग लगाया। होली की शुभकामनाएं दी। साथ ढोलक मंजीरे के साथ खुब होली के गीत गाते हुए। नृत्य किया।

f

कार्यक्रम में इंदूबाला लक्ष्मी चंद पूर्बिया, मधुबाला नरेश पूर्बिया, सुशीला देवी, अन्नू अनिल पूर्बिया,पुजा पंकज पूर्बिया, प्रभा कैलाश गोस्वामी, अनिता चौबीसा, दिलीप सालवी, शारदा सोहनलाल आचार्य, जगदीश वैष्णव, आर सी शर्मा, नरेंद्र पंडिया, गणेश लाल सुथार, ब्रिजेश आमेटा सहित सैकड़ों लोग उपस्थित थे।

सुरों की मंडली के साधको ने मनाया फाग उत्सव

सुरों की मंडली की ओर से अशोका पैलेस सिथत मधुश्री बेंक्वेट हॉल में फाग महोतसव का आयोजन किया गया। संस्थापक मुकेश माधवानी ने बताया कि इस अवसर पर करीब 35 संगीत साधकों ने मिलकर होली के गीत प्रस्तुत किये और रंग जमाया नृत्य किया और आनंद से फाग उत्सव मनाया।

माधवानी ने बताया कि प्रारंभ में मनमोहन भटनागर ने सभी का स्वागत किया उसके पश्चात एक से बढ़कर एक बेहतरीन गीतों की प्रस्तुतियां हर उम्र के संगीत के साधक जो मंडली में विगत 6 महीने से जुड़े हुए हैं उन्होंने अपने प्रस्तुतियां दी।  

फाग उत्सव में जिन साधकों ने अपनी प्रस्तुतियां दी उनमें प्रमुख रूप से सावन शर्मा, सूर्य प्रकाश, अनीता सिंगी, वीनू वैष्णव मनमोहन भटनागर माधव  , कुबेर कुमार, मोहम्मद सिद्दीकी, ईश्वर जैन, कुंदन समोता, नारायण सालवी, निर्मल बाफना, दिनेश लोहार, डॉ रजनीश कुमावत, नियति कंठालिया, चंद्रप्रकाश,  भारत कुमार सेन,लक्ष्मण दास बैरागी, देव सुखवाल, निखिल नगर , चंद्रेश खत्री , दिनेश लोहार आदि शामिल थे।

फाग उत्सव का प्रमुख आकर्षण रंग बरसे भीगे चुनरिया...वाले गीत की सामूहिक प्रस्तुति थी जिसका निर्देशन स्वयं मनमोहन भटनागर ने किया। मंडली का उद्देश्य हर उम्र के हर व्यक्ति को स्टेज प्रदान करना है ताकि वह अपने अंदर की छिपी हुई प्रतिभा को सामने ला सके और समाज में कुछ योगदान दे सकें। फाग उत्सव कार्यक्रम का संचालन उभरते हुए सूत्रधार लक्ष्य गोस्वामी ने किया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal