जावरमाइंस मजदूर यूनियन लीडर पर हुई फायरिंग के मामले में 4 अभियुक्त गिरफ्तार


जावरमाइंस मजदूर यूनियन लीडर पर हुई फायरिंग के मामले में 4 अभियुक्त गिरफ्तार

एक बाल अपचारी को भी डिटेन

 
zawaer mines
UT WhatsApp Channel Join Now

उदयपुर 2 अक्टूबर 2022। 19 सितम्बर को जावरमाइंस मजदूर यूनियन लीडर पर जान लेवा हमला करने की नियत से की गई फायरिंग के मामले में पुलिस ने 4 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया और एक बाल अपचारी को भी डिटेन किया हैं।

एसपी उदयपुर विकास शर्मा ने बताया कि क्षेत्र के ही रहने वाले राजू धनपाल ने जावरमाइंस से अपने भांजे विकास को निकाल देने से नाराज होकर लालू राम मीणा पर फायरिंग करवाई थी और इसके लिए 50 हज़ार रूपए कि सुपारी शूटर को दी थी। एसपी ने बताया कि पुलिस ने इस मामले में हथियार सप्लाई करने के आरोप में 3 अभियुक्त को गिरफ्तार किया  वहीं साथ में एक बाल अपचारी को भी डिटेन किया हैं।

पुलिस ने शूटर दिनेश कसौटा पिता रमेश कसौटा उम्र 20 वर्ष जाति मीणा निवासी सरादीत फला आमली फला तहसील झाडोल पुलिस थाना बाघपुरा जिला उदयपुर को बापर्दा गिरफ्तार व एक विधि से संघर्षरत बाल अपचारी को बापर्दा डीटेन किया गया है। उक्त घटना की रीत करने के लिए हथियार उपलब्ध करवाने वाले अभियुक्तगण आकाश उर्फ आकु पिता शंकर लाल उम्र 18 वर्ष जाति मीणा निवासी निचली सुबरी कोटडा थाना कोटडा तहसिल कोटडा जिला उदयपुर,  धुलेश्वर उर्फ धनराज डॉन पिता गौतम लाल मीणा उम्र 26 साल बिलख फला सोमावत थाना ऋषभदेव जिला उदयपुर  राजेन्द्र कुमार उर्फ राजू मीणा पिता धर्मा जी उम्र 30 साल निवासी नला फला चणावदा थाना परसाद जिला उदयपुर को गिरफ्तार किया।

घटनाकर्म :

घटना 19 सितम्बर कि सुबह करीब 5.15 बजे के आस पास हुई थी जब रोज कि तरह उस दिन भी पीड़ित लालूराम मीणा मॉर्निंग वॉक के लिए गए थे। वापस लौटते समय जावर माता मंदिर के पास पहुँचने पर पीछे से 3 युवक आए और लालूराम को जान से मारने कि नियत से उसपर ताबड़ तोड़ फायरिंग कर दी, जिसके दौरान एक गोली उनके कान, कंधे के पास गोली लगी थी। इस घटना के बाद अब टीड़ी थाने पर मामला दर्ज करवाया गया और पुलिस ने मामले कि जांच शुरू कि गई। उधर लालूराम को घायल अवस्था में उदयपुर के एक निजी अस्पताल में भरती करवाया गया। पुलिस ने मामले को जांच के दौरान खाली कारतूस भी बरामद किया गया। इस दौरान नौकरी से निकले गये लोगों से भी पूछताछ को गई, आस पास के क्षेत्र में लगे सीसी टीवी कैमरे भी खंगाले गये और करीब 80 संदिग्ध व्यक्तियों सर भी पूछ ताछ कि गई तो सुराग मिले कि इस घटना में राजू धनपाल गैंग के शूटर द्वारा कि गई थी।

एसपी ने बताया कि राजू धनपाल ने अपने भांजे विकास को नौकरी से निकलने के कारण महेन्द्र पाल नामक व्यक्ति से शूटर उपलब्ध करवाने को कहा जिसपर महेन्द्र ने होने नाबालिग भतीजे को घटना के लिए संपर्क किया। इसी के चलते उसने अपने दोस्त दिनेश कसौटा ले संपर्क किया। एसपी विकास शर्मा ने बताया कि गिरफ्तार किए गये आरोपियों से पूछताछ को गा रही हैं, तो वहीं घटना में शामिल मुख्य आरोपी विकास कि गिरफ्तारी के प्रयास किए जारहे हैं और घटना करने के पीछे के असल कारण इसकी गिरफ़्तारी के बाद हों सामने आ पाएगा।


सजायाबी रिकॉर्ड:-

गिरफतारशुदा अभियुक्तगण में से विधी से संघर्षरत बाल अपचारी के विरूद्ध मारपीट का एक प्रकरण दर्ज है। हथियार स्पलाई करने वाले आकाश उर्फ आकू के विरूद्ध मारपीट, हत्या का प्रयास, आगजनी व आर्म्स एक्ट में 4 प्रकरण दर्ज है व घुलेश्वर मीणा उर्फ धनराज के विरूद्ध डकैती, लूट, मारपीट, चोरी के कुल 9 प्रकरण दर्ज है। राजेन्द्र कुमार उर्फ राजू के विरूद्ध प्रकरण दर्ज।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal