सर्किट हॉउस से फ़र्ज़ी सीबीआई ऑफिसर समेत चार गिरफ्तार

सर्किट हॉउस से फ़र्ज़ी सीबीआई ऑफिसर समेत चार गिरफ्तार 

पुलिस यह भी जानकारी जुटाने का प्रयास कर रही है आरोपी को फर्जी आईडी कार्ड कहां से उपलब्ध हुआ

 
arrest

उदयपुर 25 जनवरी 2024। शहर की हाथीपोल थाना पुलिस ने बुधवार रात एक बड़ी कार्रवाई को अंजाम देते हुए शहर के सर्किट हाउस से एक फर्जी सीबीआई ऑफिसर सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान कोटपूतली निवासी सुनील कुमार साहू, इंद्राज सैनी, अनिल कुमार चौहान और सत्यनारायण कनोलिया के रूप में हुई है।

घटना उस वक्त सामने आई जब बुधवार शाम को सर्किट हाउस के मैनेजर नरेश वर्मा ने पुलिस को फोन पर सूचना दी की सर्किट हाउस के रूम नंबर 211 में चार संदिग्ध व्यक्ति ठहरे हुए हैं, जिसमें से एक व्यक्ति खुद को सीबीआई (आईपीएस) ऑफिसर बता रहा है, लेकिन उनकी गतिविधियां संदिग्ध है। 

वर्मा से मिली जानकारी के आधार पर हाथीपोल थानाधिकारी लीलाराम सहित ए.एस.आई अतहर खान और कांस्टेबल निर्मल की टीम ने सर्किट हाउस पहुंच कर जब रूम नंबर 211 की तलाशी ली तो वहां चार संदिग्ध व्यक्ति मिले जब उनसे पूछताछ की गई तो उनमें से एक सुनील ने खुद को सीबीआई ऑफिसर बताया और पुलिस को यह भी बताया कि वह वर्तमान में सीबीआई के दिल्ली ऑफिस में एसीपी के पद पर कार्यरत है।

थानाधिकारी लीलाराम ने बताया कि कमरे की तलाशी के दौरान पुलिस को सीबीआई विभाग का सुनील कुमार के नाम पर एक आईडी कार्ड भी मिला लेकिन उसके सत्यापन के दौरान वह नकली पाया गया जिस पर इन चारों व्यक्तियों को सीबीआई जैसे विभाग के नाम का दुरुपयोग करने और खुद को नकली सीबीआई ऑफिसर बता कर सर्किट हाउस जैसी प्रतिष्ठित जगह पर ठहरकर मैनेजमेंट को धोखे में रखने के आरोप में गिरफ्तार किया गया और चारों के खिलाफ आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर हाथीपोल थाने लाया गया।

गौरतलब इस पूरी कार्रवाई को थानाधिकारी लीलाराम और उनकी टीम ने डिप्टी एसपी चांदमल संगरिया के नेतृत्व में अंजाम दिया है। फिलहाल पुलिस इन चारों आरोपियों से उनके अपराध से संबंधित विस्तृत पूछताछ कर रही है और पुलिस यह भी जानकारी जुटाने का प्रयास कर रही है कि आखिर सुनील को सीबीआई का फर्जी आईडी कार्ड कहां से उपलब्ध हुआ है और इससे पूर्व उन्होंने किस तरीके से लोगों को और भी जगह पर बेवकूफ बनाकर सीबीआई ऑफिसर बताकर उनके साथ धोखा किया है।

फिलहाल आरोपियों से पुलिस पूछताछ के दौरान बताया कि उन्होंने सिर्फ रुबाब दिखाने और मौज मस्ती कर लोगों को बेवकूफ बनाने और निःशुल्क सर्किट हाउस में ठहरने और रेस्टोरेंट में खाना खाने की नीयत से खुद को सीबीआई ऑफिसर बताया और इसी के चलते उन्होंने नकली आईडी कार्ड भी बनवाया था हालांकि पुलिस उनसे अग्रिम पूछताछ कर रही है।
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal