Nearly 200kg of Explosive Gelatin was recovered from near a river bed at Aaspur in Dungarpur

ओड़ा ब्लास्ट के दो दिन बाद डूंगरपुर के आसपुर इलाके में नदी किनारे करीब 200 किलो विस्फोटक (जिलेटिन)पदार्थ मिला

ओड़ा ब्लास्ट के दो दिन बाद डूंगरपुर के आसपुर इलाके में नदी किनारे करीब 200 किलो विस्फोटक (जिलेटिन)पदार्थ मिला

कट्टे दिखाई देने पर क्षेत्र वासियों ने पुलिस को सूचित किया

 
Explosive Gelatin Found Near Dungarpur Aaspur

मंगलवार 5 नवंबर को उदयपुर से करीब 70 किलोमीटर दूर डूंगरपुर ज़िले के आसपुर में 7 कट्टोँ में भरा विस्फोटक जिलेटिन मिला है, जिसका वजन 186 किलोग्राम बताया ज़ा रहा है।

जहां एक तरफ रविवार 13 नवम्बर कों उदयपुर से 25 किलोमीटर दूर ओड़ा रेलवे पुलिया पर ब्लास्ट कर पटरी उड़ाने वाले हादसे में आतंकी हाथ होने या किसी साज़िश की बात पर इन्वेस्टगैशन चल रहा है, वहीं इस हादसे के दो दिन बाद विस्फोटक सामग्री का बरामद होना सूत्रों के अनुसार चिंता का विषय है।  जानकारी के अनुसार यह कट्टे डूंगरपुर के गडा नाथजी के पास सोम नदी पर बने भबराना पुल के नीचे मिलें है।

ओड़ा में ब्लास्ट कि घटना के बाद अब यहां इतनी बड़ी मात्रा में विस्फोटक बरामद होने पर इस इलाके में हड़कंप मच गया।  दरअसल मंगलवार कों पूल के नीचे क्षेत्रवसीयों ने इन कट्टोँ कों पड़ा हुआ पाया और संदेह होने पर इन्होने आसपुर थाने पर सूचना दी।  थाने कि टीम मौके पर पहुंची और जब कट्टों को बरामद करने के बाद उनमें इतनी बड़ी मात्रा में जिलेटिन नामक विस्फोटक पदार्थ देखा तो पुलिस भी चौंक गई। जानकारी मिलने पर पुलिस उपाधिक्षक कमल कुमार मौके पर पहुंचेऔर इन कट्टोँ कों कब्ज़े में लिया। पूल के नीचे नदी से मिले इन कट्टोँ में भरे प्रदार्थ का वज़न करीब 186 किलोग्राम बताया ज़ा रहा है।

पुलिस की ओर से इस बारे में अधिक जानकारी नही मिल पाई है और फिलहाल इस घटना कों ओड़ा में हुई घटना से नही जोड़ा ज़ा रहा है, लेकिन इतनी बड़ी मात्रा में विडफोटक प्रदार्थ मिलना और 2 दिन पहले क्षेत्र के आसपास ही ट्रेन ट्रैक पर ब्लास्ट होना सभी अधिकार्यों और क्षेत्र के लिए चिंता का विषय बन गया है। पुलिस ने अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ विस्फोटक अधिनियन कि धाराओं के तहत मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on  GoogleNews | WhatsApp | Telegram | Signal

From around the web