बढ़ते बेरोज़गारी के चलते फ़र्ज़ी सरकारी नौकरी देने की ठगी का आरोपी गिफ्तार

बढ़ते बेरोज़गारी के चलते फ़र्ज़ी सरकारी नौकरी देने की ठगी का आरोपी गिफ्तार 

कभी कृषि कभी रेलवे में जॉब के के फर्जी प्रस्ताव और नौकरी के झांसे देकर ठग ने वाला दो साल तक रहा फरार 

 
arrest

देश में बढ़ते बेरोज़गारी के चलते युवा नौकरी की तलाश में और इसी नौकरी में न जाने कितने दलालो के चककरो में पड़ कर रूपये गवा देते है। ऐसे ही एक मामला सामने आया जो नौकरी देने के लालच में युवाओ से पैसे ऐंठ कर अपना ठिकाना बदलता रहता है। दरअसल मामले का खुलासा तब हुआ जब आरोपी नितिन शर्मा के खिलाफ 33 वर्षीय जुबेर बेलिम ने साल 2020 में संजय पर रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। दरअसल आरोपी रेलवे विभाग और कई बैंको में अपनी पहचान बताता था साथ ही मंत्रियो के साथ अच्छी जान पहचान बता कर अपनी जॉब कंसल्टेंसी कंपनी के बारे में बताया करता था।  

जुबेर जैसे न जाने कितने लोगो के साथ ठगी का बनाता था शिकार 
 

2019 - 20 में जब जुबेर ने नौकरी के चक्कर में नितिन से संपर्क किया तब नितिन ने अपनी जान पहचान कृषि विभाग से लेकर रेलवे विभाग और बैंको में जान पहचान होना बताया जिसके चलते नितिन ने जुबेर को बताया की सरकारी नौकरी लगवाने के लिए वह प्रत्येक व्यक्ति के हिसाब से 5 लाख रूपये लेगा जिनमे 1 लाख एडवांस देना होगा और बाकी के रूपये काम होने के बाद और इसी झांसे के जाल में जुबेर नितिन की बातो में आ गया ।
 

और जुबेर ने भी बाते मान कर हाँ कह दिया जिसके बाद  अन्य बेरोज़गारों से एक एक लाख एडवांस लेकर नितिन के कहते में जमा करवा दिए और नितिन के कहने पर उन बेरोज़गारो से दस्तावेज तैयार करवाने के लिए कह दिया।  इस जालसाजी में जब काम नहीं हुआ तो जुबेर ने नितिन से फिर संपर्क किया की काम अभी तक हुआ नहीं तभी नितिन ने कहा की सरकारी काम में थोड़ा समय लगता है। साथ यह भी कहा की कृषि विभाग और रेल विभाग ने नियुक्ति पत्र जारी कर दिया है।  जिसमे विभाग की मोहर भी लगी हुई है। बाकी की रकम ऐंठने के लिए नितिन ने जुबेर से कहा अन्य लड़को से बकाया रकम दिलवाओ इस बार पर जुबेर ने बताया की बाकी की रकम जोइनिंग होने से पहले दे देंगे।  

इस बात पर नितिन ने जुबेर से बातचित बंद कर दिया और 15 दिनों तक बातों को टालता रहा इस पर जुबेर को शक होने लगा। शक की बुनियाद पर जुबेर ने सभी विभागों में नौकरी से सम्बंधित जानकारिया निकली जिस पर पता चला न तो कोई नियुक्ति पत्र जारी हुआ न कोई मोहर लगी है। 26 जुलाई 2020 को जुबेर ने नितिन को फ़ोन किया जिस पर नितिन धमकाने लगा और अपने फ़ोन नंबर बदल कर 16 लाख ले कर फरार हो गया।  इसके पश्चात जुबेर ने नितिन के खिलाफ मामला दर्ज करवाया। आरोपी नितिन को जयपुर के संजय सर्किल थाना पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।  

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal