लॉकडाउन में छेड़छाड़ कर एटीएम किया अनलॉक

लॉकडाउन में छेड़छाड़ कर एटीएम किया अनलॉक

एटीएम मशीन से छेड़छाड़ कर रूपये निकालने के मामले में 4 अभियुक्त गिरफ्तार 

 
atm loot

प्रतापनगर के कालका माता में एसबीआई के एटीएम से छेड़छाड़ कर रूपये निकालने वालो को पुलिस ने त्वरित कार्यवाही करते हुए किया गिरफ्तार 

यूट्यूब पर वीडियो देखकर सीखी कला 

हिसार हरियाणा से उदयपुर तक आते आते कई वारदातों को दिया अंजाम

उदयपुर 1 जून 2021। शहर के प्रतापनगर थाना क्षेत्र के कालका माता में एसबीआई के एटीएम के साथ में आज चार शातिरों ने छेड़छाड़ कर रूपये निकालकर फरार हो गए। उदयपुर जिला पुलिस ने साइबर सेल की मदद से तुरंत और त्वरित कार्यवाही करते घटना के कुछ समय पश्चात् ही चारो शातिरों को धर दबोचा। 

दरअसल आज कालका माता में एसबीआई के एटीएम के साथ में छेड़छाड़ कर रूपये निकालने की घटना की सूचना मिलते ही प्रतापनगर थाना पुलिस और साइबर सेल की सक्रिय हो गई।  मौके पर प्रतापनगर थानाधिकारी विवेक सिंह मय टीम ने मौके पर मौजूद एटीएम कर्मचारियों से अज्ञात व्यक्तियो एवं उनके पास उपलब्ध गाडी के बारे में जानकारी लेकर तुरंत गाड़ी को पकड़ा और उसमे बैठे दो शातिरों को पकड़ा। दोनों से पूछताछ के बाद घटना में लिप्त अन्य दो बदमाशों को साइबर सेल की मदद से पकड़ा गया। 

पुलिस द्वारा अभियुक्तों से प्रारम्भिक पूछताछ में सामने आया की चारो शातिर 30 मई को हरियाणा के हिसार से झुंझुनू, किशनगढ़, अजमेर, ब्यावर, देवगढ़ होते हिये 31 मई को नाथद्वारा में रात रुके।  आज सुबह नाथद्वारा से उदयपुर आकर कालका माता स्थित एसबीआई के एटीएम में वारदात कर रहे थे। जहाँ एटीएम कर्मचारियों के आ जाने से मौके भाग खड़े हुए। 

प्रतापनगर थानाधिकारी विवेक सिंह ने बताया की घटना में लिप्त मास्टर माइंड संजय कुमार अरोड़ा पुत्र रामस्वरूप अरोड़ा निवासी हाजमपुर हांसी सदर जिला हिसार हरियाणा, भीम सिंह पुत्र कालिदास निवासी हाजमपुर हांसी सदर जिला हिसार हरियाणा, दीपक उर्फ़ दीपू पुत्र हंसराज निवासी निवासी हांसी सदर जिला हिसार हरियाणा, संजयराम पुत्र सुरेशकुमार निवासी निवासी हाजमपुर हांसी सदर जिला हिसार हरियाणा को गिरफ्तार किया गया। 

ऐसे करते थे वारदात 
पुलिस ने बताया की अभियुक्त अपने पास लोहे की पत्तीनुमा औज़ार रखते है। जिस एटीएम पर सुरक्षा गार्ड नहीं होता उस एटीएम पर जाकर वारदात करते थे। यह लोग पहले एटीएम में पिन नंबर डालकर राशि विड्रॉल करने के प्रक्रिया करते है।  जैसे ही एटीएम मशीन से रूपये निकलने की प्रक्रिया शुरू होती है। उसी दौरान अपने पास रखे हुए लोहे की पत्तीनुमा औज़ार को एटीएम से रूपये निकलने की जगह पर डाल देते है।  जैसे ही रूपये औज़ार पर आते है तुरंत औज़ार को बहार खिंच देते है।  इस कारण एटीएम मशीन के विड्रॉल की प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाती है।  इस कारण बैंक रिकॉर्ड में ट्रांजेक्शन पूरा नहीं हो पाता है। जितने रूपये एटम से लोहे की पत्तीनुमा औज़ार पर आ जाते है, उतने रूपये लेकर एटीएम से बाहर निकल जाते। उक्त छेड़छाड़ के बाद एटीएम मशीन काम करना बंद कर देती है। तथा वारदात के बाद एटीएम मशीन से निकली हुई राशि खाते में पुनः जमा हो जाती है और बैंक को चूना लग जाता है। 

यूट्यूब पर वीडियो देखकर सीखी कला 

घटना के अभियुक्त मास्टर माइंड संजय कुमार ने यूट्यूब पर वीडियो देखकर यह कला सीखी। वे अपने साथियो के साथ मिलकर इस प्रकार की वारदाते  अंजाम देता है।  अक्सर मौके पर भीम सिंह और दीपक उर्फ़ दीपू वारदात अंजाम देते है। आज की घटना में भीम सिंह वारदात को अंजाम दे रहा था। 

हिसार हरियाणा से उदयपुर तक आते आते कई वारदातों को दिया अंजाम  

पुलिस पूछताछ में अभियुक्ति ने उदयपुर के सुखेर थाना क्षेत्र के सुखेर घाटी, भुवाणा, पुंजावाटी, केशव नगर, प्रतापनगर के कालका माता स्थित एटीएम वारदाते  करना स्वीकार किया है। इसके अतिरिक्त हिसार हरियाणा से आते हुए रास्ते में झुंझुनू, किशनगढ़, ब्यावर, देवगढ़ में एटीएम में वारदात को अंजाम दिया।  प्रारम्भिक पूछताछ में 40 से 50 वारदाते करना बताया है। अभियुक्तों की ओर से और भी वारदात खुलने की सम्भावना है। 


 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal