ऑनलाइन ठग गिरोह को फ़र्ज़ी सिम उपलब्ध करवाने वाला ई-मित्र संचालक गिरफ्तार

ऑनलाइन ठग गिरोह को फ़र्ज़ी सिम उपलब्ध करवाने वाला ई-मित्र संचालक गिरफ्तार

ऑनलाईन टेलीग्राम चैनल के माध्यम से लडकिंया उपलब्ध कराने का झांसा देकर लोगो से पैसे वसूल कर धोखाधड़ी करने के मामला 

 
salumber

सलूंबर 7 फरवरी 2024। साइबर वज्रप्रहार 1.0 ( साइबर अपराधियों के खिलाफ कार्यवाही) में अभियान के तहत जिला एसपी अरशद अली द्वारा साईबर सबंधित अपराधो की रोकथाम के लिए दिये गये निर्देशन पर पूर्व मे झल्लारा थाना सर्कल में ऑनलाईन टेलीग्राम चैनल के माध्यम से लडकिंया उपलब्ध कराने का झांसा देकर लोगो से पैसे वसूल कर धोखाधड़ी करने के मामले में प्रकरण दर्ज कर मुख्य आरोपी विकास पटेल पिता धुलजी पटेल निवासी पायरा, झल्लारा को पूर्व मे गिरफ्तार किया गया था।

प्रकरण के अनुसंधान के दौरान आरोपी विकास पटेल को धोखाधडी के कार्य के लिए फर्जी तरिकें से सिम उपलब्ध करवाने वाले ई-मित्र संचालक प्रतापलाल मीणा को गिरफ्तार किया गया ।

पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही

दिनांक 29 जनवरी 2024 को उस घटना को लेकर पुलिस थाना  झल्लारा पर दर्ज मामले मे अग्रिम अनुसंधान वीना लोट पुलिस निरीक्षक कार्यालय पुलिस अधीक्षक सलूम्बर द्वारा किया जा रहा है। अनुसंधान के दौरान पाया गया कि मुख्य आरोपी विकास पटेल द्वारा अपराध मे उपयोग की जा रही सिम के सम्बंध में रिकॉर्ड प्राप्त किया गया तो उक्त सिम गॉव पायरा के रहने वाले एक व्यक्ति के नाम पर होने से उस व्यक्ति से अनुसंधान किया गया तो उसने अपने पास इस नम्बर की सिम नहीं होना बताया व पूर्व मे मॉ दशा ई-मित्र गॉव पायरा के संचालक प्रतापलाल मीणा से अपनी पुरानी सिम को अपडेट करवाने की बात कहीं गयी। जिस पर सिम को लेकर प्रतापलाल मीणा से अनुसंधान किया गया तो प्रतापलाल मीणा द्वारा सिम को केवाईसी कर सिम अपने पास रख ली। उसके बाद एक हजार रूपये मे मुख्य आरोपी विकास पटेल को सिम बेच दी थी।

इस प्रकार ई-मित्र संचालक द्वारा अपने ई-मित्र दुकान पर आने वाले लोगो से उनकी जानकारी के बिना सिम की ईकेवाईसी कर उन सिमो को साइबर धोखाधडी के कार्य हेतु अधिक रूपयों में बेचान कर दिया जाता है। साथ ही साथ ऐसे फ्रॉड करने वालों को फर्जी खाते भी उपलब्ध कराता है। ऐसे कई और ई-मित्र भी पुलिस की राडार पर है।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal