दोहरे हत्याकाण्ड का खुलासा, रिश्तेदार ही निकली कातिल

दोहरे हत्याकाण्ड का खुलासा, रिश्तेदार ही निकली कातिल

शेयर बाज़ार में 30 लाख रूपये डूब गए थे मारिया के, इसलिए गहनों को हड़पने के चक्कर में की हत्या 

 
murder accused mariya arrest

नवरतन काम्प्लेक्स में दो बोहरा वृद्ध महिलाओ की हत्या हुई थी 

उदयपुर 2 नवंबर 2023। शहर के अंबामाता थाना पुलिस ने शहर के नवरतन काम्प्लेक्स स्थित डायमंड कॉलोनी के एक मकान में निवासरत दो वृद्ध महिलाओ की 27 अक्टूबर 2023 की हत्या की ही गई थी जिसको लेकर बोहरा समाज में आक्रोश व्याप्त था और समाजजनो ने सोमवार को प्रदर्शन भी किया था।  आज अंबामाता थाना पुलिस ने घटना का पटाक्षेप कर दिया है।     

उदयपुर के अंबामाता थाना पुलिस इस सम्बन्ध में प्रेस वार्ता आयोजित की है।  जिसकी लाइव रिपोर्टिंग हम आप तक पहुंचा रहे है।  जानिए क्या कुछ बताया जा रहा है पुलिस की प्रेस वार्ता में .... 

रिश्तेदार ही  निकली कातिल 

दोनों वृद्ध महिलाओ की हत्या की आरोपी मारिया पत्नी मुस्तनसिर बोहरा उम्र 32 साल निवासी सैफी मस्जिद के पास सलूम्बर हाल मेवाड़ हॉस्पिटल के पास सुखेर थाना क्षेत्र को गिरफ्तार किया गया है। मारिया का पति मुस्तनसिर कुवैत में रहता है। मारिया की नज़र वृद्ध महिलाओ के गहने पर थी।    

शेयर बाज़ार में 30 लाख रूपये डूब गए थे मारिया के 

पुलिस ने बताया की आरोपी महिला मारिया ने शेयर बाजार में पैसे इन्वेस्ट किये थे जिनसे उन्हें 30 लाख का घाटा हो गया था। जिसको रिकवर करने के लिए अपनी दो रिश्तेदार वृद्ध महिलाओ के ज़ेवर लूटने का प्लान बनाया था। आपको बता दे की मारिया मृतक हुसैना और सारा बाई की बहन ज़ुबैदा बाई के बेटे मुस्तनसिर की पत्नी है।  

रिश्तेदारी में होने से वजह से आरोपी मारिया का पीड़िताओं के घर आना जाना लगा रहता था। आरोपी मारिया को पीड़िताओं के पास ज़ेवर होने की जानकारी थी। आरोपी मारिया दोनों वृद्ध महिलाओ के घर का छोटा मोटा काम भी कर दिया करती थी।    

पहले भी कर चुकी है प्रयास 

आरोपी महिला मारिया ने पीड़िताओं के गहनो को हासिल करने के लिए लंबे समय से नज़र रखी हुई थी। इससे पहले भी 15-20 दिन पहले लौकी की सब्ज़ी में   नींद की दवाई मिलाकर दोनों पीड़िताओं को बेहोश कर दिया था लेकिन घर पर काम करने वाली महिला के तीनो बच्चो की मौजूदगी होने से वारदात को अंजाम  नहीं दे पाई थी। 

तरीका ए वारदात 

मारिया द्वारा 23 अक्टूबर को काम करने वाली महिला के गाँव जाने पर घर के छोटे मोटे काम की ज़िम्मेदारी अपने ऊपर ले ली।  26 तारीख को मारिया, मृतका हुसैना बाई के घर के नीचे पहुँच कर अपना पहनी हुई रिदा (बुर्का) उतारकर लोअर और टीशर्ट में मुंह ढँक कर लोहे की छोटी रोड छुपाकर हुसैना बाई के घर में दाखिल हुई जहाँ मृतक हुसैना बाई टीवी देख रही थी। मरिया ने पीछे से उनका गला दबा दिया लेकिन हुसैना बाई के द्वारा मरिया के मुंह का कपडा हटा लेने से उनकी पहचान हो गई जिससे आरोपी महिला ने हुसैना बाई का मुंह दबा कर इनके सर लोहे की रोड से वार कर मार दिया। 

हुसैना बाई को मारने के बाद मारिया ने मृतका के पहने हुए गहने उतारकर अलमारी में रखे ज़ेवर निकालकर जाने लगी तो उसी समय दूसरे कमरे से हुसैना बाई की बहन सारा बाई के आने पर उसका भी मुंह दबाकर सर पर लोहे की रोड से वार कर मार डाला और वहां से रफूचक्कर हो गई। 

आग भी मारिया ने ही लगाईं थी 

दूसरे दिन 27 अक्टूबर को मारिया पुनः पेट्रोल ले जाकर घर के नीचे फ्लोर पर पेट्रोल छिड़क कर चटाई पर आग लगा दी। ताकि दोनों महिलाओ की मौत को दुर्घटना  का रूप दे सके। 

लुटे हुए गहनों से लोन भी ले लिया 

लुटे हुए गहनों को गिरवी रखकर 27 अक्टूबर को ही मारिया ने बैंक में गिरवी रखकर गोल्ड लोन भी ले लिया। ताकि पुलिस को तलाशी के दौरान गहने बरामद न हो। दोनों बहनो के साथ हुए वारदात के जगज़ाहिर होने के बाद तथा घटनास्थल पर पुलिस के पहुँचने से लेकर कल दिनांक (1 नवंबर तक) पुलिस द्वारा डिटेन किये जाने तक मारिया मौके पर ही आती जाती रही और झुक झुक कर पुलिस को नमस्कार भी करती रही ताकि कोई उस पर शक न करे। 

इस बीच पुलिस को भनक लग गई की मारिया 1 नवंबर की रात्रि को कुवैत भागने की फ़िराक में है। तब पुलिस ने मारिया को डिटेन कर मनौवैज्ञानिक तरीके और तकनीकी आधार पर पूछताछ कर मामले का खुलासा  किया। अब पुलिस मारिया से वारदात में किसी अन्य के भी शरीक होने की पूछताछ कर रही है।  

 खुलासा करने वाली पुलिस की टीम 

डिप्टी चांदमल सिंगारीया, पुलिस उप अधीक्षक चेतना भाटी, अंबामाता एसएचओ डॉ हनुवंत सिंह राजपुरोहित, सहायक उप निरीक्षक इस्हाक मोहम्मद, शिवदत्त सिंह, हेड कॉन्स्टेबल नरेश कुमार, आशिक मोहम्मद, कांस्टेबल श्रवण कुमार, कपिल, आलोक, बजरंग सिंह, समुन्द्र सिंह, देवेंद्र, रिकेश, हरिकिशन, संदीप,  राजकमल, शैलेन्द्र सिंह, प्रकाश, राजपाल, ओमप्रकाश, शंकर सिंह, महिला कांस्टेबल बीना, मारूल व हिरणमगरी कॉन्स्टबेल रामजीलाल। इसमें कांस्टेबल श्रवण कुमार की विशेष भूमिका रही।       
 

उल्लेखनीय है की उदयपुर के अंबामाता थाना क्षेत्र स्थित नवरत्न इलाके में उस वक़्त सनसनी फ़ैल गई जब डायमंड कॉलोनी में घर में दो महिलाओं का शव मिला था। घटना की जानकारी पूरे इलाके में आग की तरफ फैल गई थी। मृतक दोनों बहनों का नाम एक का सारा पत्नी अहमद अली लुक्का वाला और दूसरी बहन का नाम हुसैना पत्नी याह्या अली हकीम था ।      

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal