झूठी लूट की घटना कहानी बनाकर पुलिस को गुमराह करने वाला गिरफ्तार

झूठी लूट की घटना कहानी बनाकर पुलिस को गुमराह करने वाला गिरफ्तार 

शंका के आधार पर पुलिस ने जांच की तो खुलासा हुआ

 
arrest

उदयपुर 9 मार्च 2024। शहर की सुखेर थाना पुलिस ने झूठी लूट की घटना की कहानी बनाकर पुलिस को गुमराह करने के मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है।

दरअसल 21 फरवरी 2024 को पेसिफिक मेडिकल कॉलेज और हॉस्पिटल भीलों का बेदला में कैथ लैब इंचार्ज चिंतन जोशी ने सुखेर थाने पर रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि लैब में काम करने वाले कर्मचारी लोकेंद्र पवार जिसको उसने अपने घर जाकर उसकी बीवी से ₹ 5 लाख नकद लेकर उसके IDFC Bank चेतक सर्किल ब्रांच में जमा करने को कहा था जब वह घटना वाले दिन जोशी के घर से नगद राशि लेकर बैंक की तरफ जा रहा था तभी सपेटिया गांव के नजदीक पहुंचने पर सुनसान सड़क पर पीछे से आए बदमाशों ने उसे रोक उसके साथ मारपीट की और उसके पास से राशि से भरा हुआ बैग छीनकर फरार हो गए।

इस घटना को लेकर चिंतन ने सुखेर थाने पर रिपोर्ट दर्ज कराई थी जिसके बाद थाना पुलिस द्वारा मामले की जांच की जा रही थी लेकिन इसी दौरान चिंतन को उसके कर्मचारी लोकेंद्र पर भी शंका हो गई थी जिसको लेकर उसने सुखेर थानाधिकारी हिमांशु सिंह राजावत को इसकी शिकायत की थी और मामले की निष्पक्ष जांच कर आरोपी को आईडेंटिफाई कर उसे जल्द गिरफ्तार करने की मांग भी की थी।

इसी के मद्देनज़र थानाधिकारी सुखेर हिमांशु सिंह राजावत द्वारा उसकी टीम से लोकेंद्र पवार की गतिविधियों पर नजर रखने और मुखबिर से इस घटना को लेकर जानकारी जुटाना को कहा था इसके तहत सुखेर पुलिस की टीम अलग-अलग इलाकों में मुखबिरों से सूचना जुटा रही थी इसी के चलते पुलिस ने शंका के आधार पर लोकेंद्र को जब थाने पर बुलाकर पूछताछ की तो पहले तो उसने पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया लेकिन जब पुलिस ने सख्ती दिखाई तो उसने अपना गुनाह कबूल किया और चौंकाने वाला खुलासा करते हुए पुलिस को बताया कि दरअसल उसके साथ कभी भी कोई लूट की वारदात नहीं हुई है और इतनी बड़ी संख्या में नगद राशि देखकर उसे लालच आ गया था जिसको लेकर उसने चिंतन जोशी की राशि को अपने पास रख लिया और झूठी-मूठी लूट की कहानी गढ़कर चिंतन को सुना दी। साथ ही उसने चिंतन को यह भी बताया कि अज्ञात आरोपियों द्वारा उसके साथ मारपीट की गई उसकी गाड़ी की हेडलाइट फोड़ दी गई उसे जमीन पर गिरा दिया गया और नगद राशि से भरा हुआ बैग लेकर फरार हो गए।

मामले का खुलासा होने के बाद आरोपी लोकेंद्र के खिलाफ आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है उससे घटना के दौरान लूटे गए ₹ 5 लाख ₹ 4.5 लाख आरोपी से बरामद कर लिए हैं साथ ही घटना में प्रयोग की गई उसकी मोटरसाइकिल भी पुलिस ने ज़ब्त कर ली है।

थानाधिकारी हिमांशु सिंह राजावत ने बताया कि पुलिस की पूछताछ में सामने आया की लूटी गई ₹5 लाख की राशि में से आरोपी द्वारा ₹50000 मौज मस्ती के लिए खर्च कर दिए गए हैं। पुलिस अब उसे इस मामले को लेकर गहनता से पूछताछ कर रही है।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal