मावली बच्ची के रेप और मर्डर केस में पुलिस ने 22 दिन बाद चालान पेश किया

मावली बच्ची के रेप और मर्डर केस में पुलिस ने 22 दिन बाद चालान पेश किया 

आरोपी पोर्न वीडियो देखना का आदि : पुलिस 

 
mavli rape case

उदयपुर ,24.04.23-जिले के मावली थाना इलाके में 9 साल की मासूम बच्ची से दुष्कर्म व हत्या के मामले में आरोपियों के खिलाफ सोमवार को कोर्ट में चालान पेश किया गया. इस दौरान आरोपी के साथ उसके माता-पिता को भी कोर्ट में पेश किया गया. साथ ही बताया गया कि पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ 306 पन्नों का चालान पेश किया है. वहीं, इस मामले में 6 मई को अगली सुनवाई होगी.

मामले की जांच अधिकारी कैलाश राठौड़ ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में चालान पेश कर दिया गया है. कोर्ट ने आगामी 6 मई को अगली सुनवाई की तारीख मुकर्रर की है. साथ ही उन्होंने बताया कि आरोपियों के खिलाफ 306 पन्नों की चार्जशीट पेश की गई है, जिसमें 48 गवाहों को शामिल किया गया है. पुलिस अधिकारी ने बताया कि आरोपी मोबाइल में पोर्न देखने का आदी था.

पुलिस की ओर से पेश किए गए चालान में सामने आया है कि आरोपी अपने मोबाइल में पोर्न देखने का आदी था. जिस दिन आरोपी ने वारदात को अंजाम दिया था, उस दिन वो फोन पर करीब 25 से ज्यादा बार पोर्न देखा था. इसके अलावा 26 मार्च को भी आरोपी ने 22 बार पोर्न था.

वहीं, पूछताछ में यह बात भी सामने आई है कि आरोपी के घर के पास से बच्ची गुजर रही थी,  उसकी आवाज सुनकर आरोपी ने उसे चॉकलेट के नाम बुलाया और फिर उसके साथ दुष्कर्म करने की कोशिश की. इधर, बच्ची के शोर मचाने पर उसने उसके मुंह पर कपड़ा बांध दिया और फिर दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया, लेकिन इस दौरान इसके बाद बच्ची की मौत हो गई.ऐसे में आरोपी बच्ची के शव को बाथरूम में ले गया, कुछ देर वहां रखने के बाद वह उसे टॉयलेट में लगाया जहां उसने बच्ची के शव के छुरी और पत्थर की मदद से 10 टुकड़े कर दिए. इसके बाद उसने शव को पास के कमरे में अलग-अलग थैलियों में रख दिया था.

माँ बाप के घर आने पर जब उन्हें अपने बेटे की करतूत का पता चला तो उन्होंने मिलकर बच्ची के शव के टुकड़ों को ठिकाने लगाने का प्लान बनाया और फिर देर रात उन टुकडो को पास ही खली पड़े एक मकान में रख दिया।  

चालान में सामने आया है कि आरोपी ने बच्ची के शव के 10 टुकड़े कर दिए थे. इसके बाद प्लास्टिक की पॉलीथीन में उन टुकड़ों को बांधकर डिस्पोज करने में आरोपी के माता-पिता ने उसका साथ दिया था. साथ ही आधी रात को पास के खंडहरनुमा मकान  में बच्ची के शव को फेंकने की योजना बनाई गई. इस दौरान आरोपी की मां भी वहां मौजूद रही थी, जबकि पिता घर के चौक पर खड़ा था. एडवोकेट अमित पालीवाल ने बताया कि आरोपी अपने मोबाइल में पोर्न मूवी देखने का आदी था. उसने इस घटना को अंजाम देने के पहले कई बार पोर्न देखी थी.

पालीवाल ने बताया की आरोपी कमलेश राजपूत  एक स्कूल ड्रॉपआउट हैं, उसने 9 वी क्लास में फेल होने के बाद पड़े छोड़ दी थी, इसके बाद वह अपने किसी रिश्तेदार के साथ 6 महीने तक काम के सिलसिले में रहा लेकिन मामला नहीं जमने पर लोट आया। 
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  WhatsApp |  Telegram |  Signal