एनएमसी ने मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट 2023 में किये बदलाव

एनएमसी ने मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट 2023 में किये बदलाव

फिजिक्स विषय में अधिक अंक प्राप्त करने वाले को बेहतर रैंक दी जाएगी

 
नीट यूजी2023

मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट-यूजी 2023 के परीक्षा परिणाम घोषित होने के बाद आयोजन में नेशनल मेडिकल कमीशन(एनएमसी) द्वारा नियमों में बड़े बदलाव किए गए हैं। अभी तक औचित्यहीन बताए जा रहे पुराने एज क्राइटेरिया की बाध्यता खत्म कर लाखों विद्यार्थियों को बड़ी छूट प्रदान की है। अब 31 दिसंबर 2024 तक 17 साल की आयु पूरी करने वाले विद्यार्थी नीट यूजी-2024 में शामिल हो सकेंगे।

पुराने नियमों के मुताबिक 31 जनवरी 2024 तक 17 साल की आयु पूरी करने वाले विद्यार्थियों को ही नीट यूजी-2024 की परीक्षा में शामिल होने के लिए पात्र घोषित कर रखा था। अंडर ग्रैजुएट मेडिकल एजुकेशन बोर्ड (यूजीएमईआर) के अध्यक्ष की ओर से जारी आदेश के अनुसार, अब विद्यार्थियों को 17 साल की आयु पूरी करने के पुराने नियमों के हिसाब से 11 माह की अतिरिक्त छूट मिलेगी। बता दें, नीट यूजी परीक्षा में शामिल होने के लिए हर साल औसत 20 लाख विद्यार्थी आवेदन करते हैं।

इन को दी जाएगी बेहतर रैंक

कमीशन द्वारा टाइ ब्रेकिंग नियमों में भी आमूलचूल परिवर्तन किया गया है। नए क्राइटेरिया के अनुसार विद्यार्थियों के कुल-अंक समान होने पर फिजिक्स विषय में अधिक अंक प्राप्त करने वाले को बेहतर रैंक दी जाएगी। यदि फिर भी टाइ होता है तो फिर केमिस्ट्री तथा अंतत: बायोलॉजी के अंकों के आधार पर टाइ-ब्रेकिंग होगा। 

12वी बोर्ड में अंक प्रतिशत की भूमिका को किया समाप्त

कोटा के एजुकेशन एक्सपर्ट देव शर्मा बताते हैं कि नीट-यूजी के लिए जारी किए गए एलिजिबिलिटी-क्राइटेरिया के अनुसार 12वीं बोर्ड में अंक प्रतिशत की बाध्यता समाप्त कर दी गई है। अब 12वीं बोर्ड में उत्तीर्ण सभी विद्यार्थी मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट-यूजी में ड्यूटी में सम्मिलित होने के पात्र होंगे।



 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal