गिरजाघरों में श्रद्धा और सादगी से मनाया गया गुड फ्राइडे


गिरजाघरों में श्रद्धा और सादगी से मनाया गया गुड फ्राइडे

इसी दिन यरुशलम मे ईसा मसीह को षड्यंत्रपूर्वक सूली (क्रॉस) पर चढ़ा दिया गया था

 
good friday
UT WhatsApp Channel Join Now

उदयपुर 15 अप्रैल 2022। ईसाई समुदाय ने शहर के अलीपुरा स्थित आवर लेडी ऑफ फातिमा गिरजाघर में गुड़ फ्राइडे श्रद्धा और सादगी से मनाया गया। प्रार्थना सभा अपरान्ह तीन बजे शुरू हुई। मान्यता है कि इसी दिन यरुशलम मे ईसा मसीह को षड्यंत्रपूर्वक सूली (क्रॉस) पर लटका दिया गया था और मनुष्य की भलाई के लिए उन्होंने अपने प्राण सूली पर त्याग दिए थे। 

प्रभु ईसा मसीह, लोगों को मानवता, एकता और अहिंसा का उपदेश देकर अच्छाई की राह पर चलने के लिए प्रेरित कर रहे थे।  धार्मिक अंधविश्वास करने वाले लोगों ने उन पर राजद्रोह का आरोप लगा दिया। उन्हें मौत की सजा सुनाई गई और प्रभु यीशु को सूली पर चढ़ा दिया गया।  प्रभु यीशु के मानवता की भलाई के लिए दिए बलिदान की वजह से इस दिन को गुड फ्राइडे कहते हैं। गुड फ्राइडे को चर्च में उनके जीवन के आखिरी पलों को दोहराया जाता है। यह शोक का दिन है।

good friday

गुड फ्राइडे के तीसरे दिन प्रभु ईसा मसीह दोबारा जीवित हो उठे। उनके दोबारा जीवित होने की घटना को ईस्टर संडे के रूप में मनाया जाता है। 

आवर लेडी ऑफ फातिमा गिरजाघर के फादर अरविंद अमलियार ने बताया कि गुड़ फ्राइडे की विशेष आराधना के तहत पहले क्रूस यात्रा हुई। इसके पश्चात बाइबिल पठन एवं यीशु मसीह के दुःख भोग का वृतान्त सुनाया गया। प्रार्थना सभा का संचालन फादर मारकस ने किया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal