शाही लवाजमें के साथ नगर भ्रमण पर निकले आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर


शाही लवाजमें के साथ नगर भ्रमण पर निकले आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर

पूरे मार्ग में हुई महाकाल की भव्य अगवानी, आरती

 
mahakaleshwar yatra
UT WhatsApp Channel Join Now

उदयपुर। सार्वजनिक प्रन्यास मंदिर श्री महाकालेश्वर मंदिर में श्रावण मास महोत्सव के अंतिम सोमवार को आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर ने नगर भ्रमण किया।

प्रन्यास सचिव एडवोकट चन्द्रशेखर दाधीच ने बताया कि श्रावण महोत्सव के तहत् परम्परागत रूप से निकलने वाली शाही सवारी श्रावण मास के अंतिम सोमवार 28 अगस्त को अभिजित मुर्हूत में 12.15 बजे महाकालेश्वर मंदिर के पूर्वी द्वार से सिंह गुफा होते हुए निर्धारित मार्ग पर निकली। दाधीच ने बताया कि सवारी के पूर्व आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर के विग्रह स्वरूप को रजत पालकी में विराजमान कर मंदिर परिक्रमा करा अभिजित मुर्हूत में शाही सवारी शिव शक्ति व शिव परिवार सहित विभिन्न देवी देवताओं की आदमकद झांकियां साथ नगर भ्रमण को निकले।

mahakaleshwar yatra

महोत्सव समिति के संयोजक रमाकान्त अजारिया व एडवोकेट सुन्दरलाल माण्डावत ने बताया कि नगर भ्रमण पर निकलने वाली शाही सवारी में इस बार सर्वप्रथम आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर की प्रातः परम्परागत रूप से सेवा पूजा हुई व प्रभु महाकालेश्वर को सहस्त्रधारा अभिषेक, रूद्रीपाठ सुनाया गया।

mahakaleshwar mandir

महोत्सव समिति विनोद कुमार शर्मा ने बताया कि शाही सवारी के आगे प्रथम पूज्य भगवान श्रीगणेश उनके साथ साथ शिव परिवार, राम जी, हनुमान जी, विश्वकर्मा जी, महर्षि दधीची के साथ कई देवी देवताओं की आदम कद झांकियां साथ रही। इनके बीच मां जगदम्बा व विशाल नन्दी पर विराजित महाकाल की झांकी साथ के साथ एक कतार में गौ माता की झांकिया चली।  झांकियों के बीच में आदिवासी बाहुल्य द्वारा गवरी मंचन किया गया।

mahakaleshwar mandir

मार्ग की शुद्धता के लिए गौ मूत्र का छिड़काव एवं वायुशुद्धि के लिए गूगलधूप के साथ मशालें जिनमें गूगल, धूप, अगरबत्ती, लोबान से मिश्रित द्रव्य से रास्ते भर पवित्र वातावरण बना रहा।  आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर की रजत पालकी के पीछे विशेष तोप द्वारा पुरे मार्ग पर गुलाब के फूलों की पखुंडियों से पुष्पवर्षा की गई

mahakaleshwar

आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर की शाही सवारी में इस बार मेवाड़ क्षेत्र के वनवासी अंचल से आदिवासी समुदाय बड़ी संख्या में अपनी परम्परागत पौशाक पहनकर भगवान शिव की बारात के रूप में गवरी नृत्य, भजन, लोक वाद्य बजाते गाते चले।

mahakaleshwar

शाही सवारी महाकालेश्वर मंदिर के पूर्वी द्वार से होते हुए पीपी सिंघल मार्ग, काला किवाड़, स्वरूप सागर, शिक्षा भवन चैराहा, चेतक सर्कल, स्वप्नलोक, हाथीपोल, मोती चौहट्टा, घंटाघर, जगदीश मंदिर, चांदपोल, जाड़ा गणेश जी, अम्बापोल, अम्बामाता होते हुए पुनः महाकाल मंदिर पहुंची।

mahakaleshwar

प्रन्यास सचिव चन्द्रशेखर दाधीच ने बताया कि आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर की चेतक सर्कल स्थित भगवान शनि देव पुजारी परिषद की ओर से टेक्सी स्टेण्ड पर आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर की अगवानी कर भव्य आरती की गई। इसके पश्चात् चेतक स्थित आशीष पैलेस होटल के बाहर सिख समाज, स्वप्नलोक पर सिन्धी समाज, हाथीपोल पर खटीक समाज व कालिका माता पुजारी परिषद द्वारा आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर का परस्पर पूजन स्तवन व आरती की। इसके पश्चात् शाही सवारी का हाथीपोल अन्दर मावा गणेशजी के बाहर विशेष पूजा अर्चना की गई। मोती चौहट्टा से जगदीश मंदिर के बीच विभिन्न समाजों आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर की अगवानी कर पुष्प वर्षा व जगह जगह आरती की गई।

mahakaleshwar

महोत्सव समिति के विनोद कुमार शर्मा व महिपाल शर्मा ने बताया कि जगदीश मंदिर पुजारी परिषद द्वारा आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर की अगवानी कर परस्पर पूजन स्तवन व महाआरती की गई। जहां महाकाल की ओर से जगन्नाथ स्वामी को सुदर्शन चक्र व जगन्नाथ स्वामी की ओर से महाकाल को त्रिशुल व कमल भेंट किया गया। तत्पश्चात् जगदीश मंदिर पर महाकाल की भव्य आरती की गई। इसी क्रम में जाडा गणेश मंदिर के बाहर विशेष पूजा अर्चना हुई। सवारी के अंत में अम्बामाता मंदिर पर माताजी पुजारी परिषद की ओर से आशुतोष भगवान की विशेष पूजा अर्चना कर मां जगदम्बा व आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर की भव्य आरती की गई। आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर की सवारी मंदिर पहुंचने के बाद सायंकाल भव्य आरती की गई।
आशुतोष भगवान श्री महाकालेश्वर की पालकी के आगे परम्परागत रूप से महिलाएं झाडु बुहारते चली। साथ की ओगड़ी की अखण्ड धुणी की झांकी में पूरे मार्ग आहुतियां दी गई।

mahakaleshwar yatra


 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal