जन्माष्टमी पर प्रताप गौरव केन्द्र में भरेगा लाड़ले लालन का मेला

जन्माष्टमी पर प्रताप गौरव केन्द्र में भरेगा लाड़ले लालन का मेला

होंगी विविध प्रतियोगिताएं, सजेंगी झांकियां

 
pratap gaurav kendra

उदयपुर 1 सितंबर 2023। माताओं के दुलारे, जन-जन के प्यारे, लाड़ले लालन का जन्मोत्सव इस वर्ष प्रताप गौरव केन्द्र राष्ट्रीय तीर्थ पर धूमधाम से मनाया जाएगा। जन्माष्टमी पर 7 सितंबर को दिनभर विविध आयोजन होंगे, सुबह अभिषेक होगा, नन्हें-मुन्ने नटखटों के लिए प्रतियोगिताएं होंगी, दही हांडी होगी, भजन संध्या होगी, रात को जन्मोत्सव के दर्शन होंगे और महाआरती के साथ जन्मोत्सव की बधाइयां बांटी जाएंगी।

प्रताप गौरव केन्द्र राष्ट्रीय तीर्थ के निदेशक अनुराग सक्सेना ने बताया कि जन्माष्टमी के दिन 7 सितंबर को परिसर में स्थित भक्ति धाम में मेले सा माहौल रहेगा। जन्मोत्सव के आयोजनों का आरंभ प्रातःकाल 7 बजे भक्तिधाम में स्थित भगवान श्रीकृष्ण के विभिन्न स्वरूपों के पंचामृत अभिषेक से होगा। इसमें 51 जोड़े शामिल होंगे। 

इन विविध आयोजनों के लिए श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मेला समिति का गठन किया गया है। समिति की बैठक शुक्रवार को गौरव केन्द्र परिसर में हुई जिसमें विभिन्न व्यवस्थाओं को लेकर चर्चा हुई। बैठक में विभिन्न समाज-संगठनों से जुड़े समाजसेवी व भक्तजन शामिल हुए।

pratap gauravkendra

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मेला समिति के संयोजक सत्यनारायण गुप्ता ने बताया कि दोपहर एक बजे से 5 वर्ष तक की उम्र के बच्चों के लिए कान्हा-यशोदा वेशभूषा प्रतियोगिता होगी। इस प्रतियोगिता में बच्चों की माताओं को भी साथ आना अनिवार्य होगा। इसमें बिटिया भी कान्हा के रूप में भाग ले सकेंगी। इसी के साथ, 6 से 10 वर्ष तक की उम्र की बच्चों के लिए राधा-कृष्ण वेशभूषा प्रतियोगिता होगी। इसमें बच्चों को राधा या कृष्ण बनकर आना है।

अपराह्न 4 बजे से दही-हांडी प्रतियोगिता शुरू होगी। इस बार पुरुषों के साथ महिलाओं के लिए भी अलग से दही-हांडी प्रतियोगिता का नवाचार किया गया है। इस प्रतियोगिता के साथ ही शाम को छह बजे से परिसर में श्रीकृष्ण लीलामृत झांकियां सजाई जाएंगी। यह झांकियां विद्या निकेतन बड़गांव के सहयोग से सजाई जाएंगी।

आयोजन सहसंयोजक सत्यप्रकाशन ने बताया कि रात 8 बजे से भक्तिगीतों की सरिता का दौर शुरू होगा। यह दौर मध्यरात्रि तक जन्मोत्सव के दर्शन खुलने तक रहेगा। जन्मोत्सव के दर्शन के साथ ही महाआरती होगी और प्रसाद रूप में कान्हा के जन्म की बधाई बांटी जाएगी।

सह संयोजक गौरव नागर ने बताया कि जन्मोत्सव के आयोजनों के साथ ही परिसर में विभिन्न स्टॉल्स भी लगाई जाएंगी। जन्मोत्सव को एक मेले का स्वरूप दिया जा रहा है। इस अवसर पर भक्तिधाम परिसर की ओर से प्रवेश होगा जो निःशुल्क रहेगा। विभिन्न प्रतियोगिताओं के लिए प्रविष्टियां लेने का क्रम शुरू हो गया है।
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal