क्वालिटी सर्किल फोरम ऑफ़ इंडिया का दो दिवसीय अधिवेशन सम्पन्न

क्वालिटी सर्किल फोरम ऑफ़ इंडिया का दो दिवसीय अधिवेशन सम्पन्न

मुख्य अतिथि गिट्स के निदेशक नरेन्द्र सिंह राठौर थे
 
gits

“बेहत्तर भविष्य के लिए गुणवत्ता विचारधाराओं को पोषित करें “ विषय पर राष्ट्रीय संसथान क्वालिटी सर्किल फोरम ऑफ़ इंडिया के प्रदेश चैप्टर ,” राजसमन्द चैप्टर “ की और से दो दिवसीय अधिवेशन होटल भवगीत, शोभागपुरा के भव्य सभागार में लगभग चार सौ से अधिक संभागियों एवं अतिथियों की उपस्तिथि में 11 एवं 12 सितंबर को संपन्न हुआ।  

दोनों दिनों के अधिवेशन की अध्यक्षता चैप्टर के अध्यक्ष राधाश्याम केडिया ने की जो की जे के टायर कांकरोली के उपाध्यक्ष भी हैं। पहले दिन के मुख्य अतिथि नरेन्द्र सिंह राठौर, निदेशक गीतांजलि इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी ने अपने सम्प्बोधन में कहा की उद्यौग एवं सेवा क्षेत्र में उत्पादकता , गुणवता, नवोन्मेष एवं बेहत्तर ग्राहक सेवा के लक्ष्यों की पालना करते हुए ही कोई आज के प्रतिस्पर्धात्मक समय में प्रगति कर सकता है। 

उन्होंने सर्किल फोरम ऑफ़ इंडिया के गुणवत्ता सम्बन्धी कार्यक्रमों उद्यौग एवं सेवा क्षेत्र के विकास की दिशा में उपयोगी बताया एवं आव्हान किया की आज उपस्थित उद्यौग जगत के प्रतिनिधि एवं कर्मचारी निश्चित ही इस अवसर का लाभ उठाएंगे और अपने योगदान देंगे। 

श्री केडिया ने क्वालिटी सर्किल फोरम ऑफ़ इंडिया के कार्यक्रमों का सम्पूर्ण विवरण दिया और यह भी आव्हान किया की अक्टूबर माह में क्वालिटी सर्किल फोरम ऑफ़ इंडिया के टी क्यू एम अधिवेशन में ज्यादा से ज्यादा उद्यौग भागीदारी करें। आज के विशिष्ठ अध्यक्ष संजय श्रीवास्तव, उपाध्यक्ष-एच आर ने बताया की क्वालिटी सर्किल फोरम ऑफ़ इंडिया से वे नब्बे के दशक से जुड़े हैं और गुणवत्ता सम्बंधी विचारधाराओं को इसलिए महत्वपूर्ण बताया की इससे से प्रत्येक कर्मचारी की बौद्धिक क्षमताओं में वृधि होती है और वे उत्पाद की गुणवत्ता निर्माण में भागीदारी के माध्यम से उद्यौग एवं राष्ट्र के विकास में योगदान कर पाते हैं। अपने विदेश प्रवास के दौरान गुणवत्ता सम्बन्धी अनुभवों को भी साझा किया। 

धन्यवाद अर्पित करते हुए डॉ महिमा बिरला ने सभी का धन्यवाद अर्पित करते हुए शिक्षा संस्थानों द्वारा तकनीकी एवं  प्रबंध के क्षेत्र में किये जा रहे नवोन्मेष के बारे में बताया।  

१२ सितम्बर के अधिवेशन के मुख्या अथिति मनोज जोशी , पूर्व अध्यक्ष कलडवास चेंबर ऑफ़ कॉमर्स एवं वर्तमान में मोल्ड मेकर्स के चेयरमैन ने संबोधित किया और आपने इस अवसर पर सभी संभागियों को एक गीत गवाया जो उत्पादकता, गुणवत्ता और राष्ट्र के विकास की थीम पर आधारित था। संभागियों से इसे बहुत सराहा। मनोज सोनी उपाध्यक्ष, हिंदुस्तान जिंक ने उद्यौग के प्रतिनिधियों के लिए परस्पर एक दुसरे की प्रस्तुतियों देखकर सिखने का अनुपम अवसर बताया। उन्होंने कहा की आप इन सुधारों को अपने अपने कार्य स्थलों पर जाकर क्रियान्वित करें। धन्यवाद ज्ञापन अजय नागर ने किया।   

अधिवेशन में सिक्योर मीटर्स उदयपुर की तेईस टीम, जे के टायर्स की दस टीम, जे के लक्ष्मी सीमेंट सिरोही की नो टीम, जे के लक्ष्मी सीमेंट- झज्जर की दो टीम, राष्ट्रीय केमिकल फ़र्टिलाइज़र मुंबई की दो टीम, जे एस डब्लु बाड़मेर की पांच टीम, नेशनल थर्मल पॉवर कारपोरेशन-कहलगांव की तीन टीम, दादरी की एक टीम और अन्ता की एक टीम , हिंदुस्तान जिंक राजपुरा दरीबा माइंस की चार टीम, हिंदुस्तान जिंक चंदेरिया की छह टीम, हिंदुस्तान जिंक चंदेरिया की चार टीम, हिंदुस्तान जिंक एस के माइंस की पांच टीम, हिंदुस्तान जिंक दरीबा की आठ टीम, हिंदुस्तान जिंक देबारी की पांच टीम इस तरह कुल 96 टीम ने भागीदारी की। इस में से 84 ने अपनी गुणवत्ता आधारित प्रस्तुतियों के लिए स्वर्ण पदक एवं 12 टीम ने रजत पदक जीते।  

इन प्रस्तुतियों को जाने माने गुणवत्ता विशेषज्ञों सुनील कुमार जगासिया, भूतपूर्व सीइओ रोहित-टी क्यू एम् विशेषज्ञ, डॉ नरेन्द्र कुमार शर्मा उपाध्यक्ष राजस्थान चैप्टर एवं भूतपूर्व महाप्रबंधक, रमेश सुथार, डॉ संज्ञा शर्मा, यजुवेंद्र श्रीवास्तव, दिनेश पानेरी भूतपूर्व महाप्रबंधक, नारायण लाल माली, शिक्षा  शास्त्री ने परखा।  सभी अथितियों, गुणवत्ता विशेषज्ञों, एवं पुख राज ने पदक वितरित किये। 
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal