बोहरा समुदाय ने मनाया आशूरा

बोहरा समुदाय ने मनाया आशूरा

अज़ादारी जुलुस निकाला गया

 
ashura

दाउदी बोहरा समुदाय ने कल अपने इमाम, इस्लाम के पैगम्बर मुहम्मद साहब (स.अ.व.) के नवासे, हज़रत अली (अ.स.) और सैय्यदा फातिमा (अ.स.) के बेटे इमाम हुसैन और उनके 74 साथियो की शहादत  की याद में यौम ए आशूरा मनाया। 10 मुहर्रम (27 जुलाई) को इमाम हुसैन की शहादत की याद में हर वर्ष निकलने वाला अज़ादारी जुलुस नमाज़ इ ज़ोहर के बाद अंजुमन ए फ़िदायाने हुसैनी द्वारा बोहरवाड़ी स्थित मोहियतपुरा मस्जिद से और वजीहपुरा मस्जिद तक निकला गया ।

ashura

दाऊदी बोहरा जमात के प्रवक्ता मंसूर अली ओड़ावाला ने बताया की जुलुस में इमाम हुसैन के भाई मौला अब्बास के अलम निकाले गए। जुलुस में मार्ग के दोनों ओर समज की महिलाये आँखों में अपने इमाम का ग़म लिए हुए खड़ी हुई थी। वहीँ छोटे छोटे मासूम बच्चे भी या हुसैन या अली पुकार के मातम कर रह रहे थे।

ashura

जुलुस में असरार जावरिया वाला, मुजम्मिल, सरफ़राज़ मुहिब, मोइज़ अली एन्ड पार्टी  मातमी नौहा पढ़ते हुए चल रहे थे। जुलुस के संचालन को अंजुमन ए फिदायाने हुसैनी के कार्यकर्ताओ ने अंजाम दिया।

ashura

दाउदी बोहरा जमात के सचिव ज़ाकिर हुसैन पंसारी ने बताया की जुलुस के फ़ौरन बाद वजीहपुरा मस्जिद में इमाम हुसैन और उनके 74 साथियो की शहादत मुल्ला मेहदी हसन साहब द्वारा वजीहपुरा मस्जिद में पढ़ी गई। आशूरा के दिन सामूहिक इफ्तारी का आयोजन भी किया गया। मग़रिब ईशा की नमाज़ सामूहिक नियाज़ का आयोजन बोहरवाड़ी स्थित जमाअतखाना में रखा गया।

ashura

 

शाम ए गरीबां का देर रात को हुई समाप्त

shaam e gariban

आज रात को शाम ए गरीबां की मजलिस का आयोजन वजीहपुरा मस्जिद में किया गया, जिनमे जनाब अली असगर मस्जिद में बत्ती गुल कर अँधेरे में शाम ए गरीबां का मंज़र पेश किया । जबकि असरार अहमद जावरिया वाला सलाम ए आखिर पेश किया।

muharam

 

muharram

 

ashura

 

ashura

ashura

 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal