दोस्त ही निकला टैक्सी ड्राइवर का हत्यारा

दोस्त ही निकला टैक्सी ड्राइवर का हत्यारा

शहर के अम्बामाता थाना क्षेत्र की एकलव्य कॉलोनी में हुए युवक की हत्या के मामले में बुधवार को अम्बामाता थाना पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। हत्या का आरोपी कोई और नहीं बल्कि मृतक का दोस्त ही निकला। वह दोस्त जिसके साथ वह पहले एक कमरे में ही रहा करता था। हत्यारे दोस्त ने मृतक जगदीश को पत्थर से सिर कुचलकर बेरहमी से हत्या कर डाली।

 

दोस्त ही निकला टैक्सी ड्राइवर का हत्यारा

शहर के अम्बामाता थाना क्षेत्र की एकलव्य कॉलोनी में हुए युवक की हत्या के मामले में बुधवार को अम्बामाता थाना पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। हत्या का आरोपी कोई और नहीं बल्कि मृतक का दोस्त ही निकला। वह दोस्त जिसके साथ वह पहले एक कमरे में ही रहा करता था। हत्यारे दोस्त ने मृतक जगदीश को पत्थर से सिर कुचलकर बेरहमी से हत्या कर डाली।

अम्बामाता थानाधिकारी चेनाराम पचार ने बताया कि मंगलवार को एकलव्य कॉलोनी के लोगों से सूचना मिली की कॉलोनी के नाले में एक संदिग्ध बोरा (कट्टा) पड़ा है जिसमे से भयंकर दुर्गन्ध आ रही है। पुलिस ने जाकर कट्टा खोल कर देखा तो पाया की कट्टे में एक युवक का शव पड़ा है। शव की पहचान कॉलोनी के पेशे से टैक्सी ड्राइवर जगदीश पंवार पुत्र मांगीलाल पंवार (दरजी) निवासी कुंवारिया (राजसमंद) हाल रामपुरा, उदयपुर के रूप में की गई। पुलिस ने जांच-पड़ताल शुरू की और बुधवार को निवासी कुलदीप शर्मा पुत्र गोवर्धन शर्मा निवासी प्रतापगढ़ हाल एकलव्य कॉलोनी, उदयपुर को गिरफ्तार किया गया है। कुलदीप ने जगदीश की हत्या करना कबूल कर लिया है।

पुलिस से पूछताछ में कुलदीप ने बताया कि वह प्राइवेट डिप्लोमा कर रहा है, वहीं जगदीश टैक्सी चालक था। पहले दोनों एकलव्य कॉलोनी में ही किराए पर कमरा लेकर एक साथ रहते थे। जगदीश आदतन शराबी था और शराब पीने के बाद हर दिन उसे परेशान करता रहता था। इस वजह से उसका कमरे में रहना मुश्किल हो गया था। इसी बात को लेकर उनमें झगड़ा हो गया और दोनों अलग-अलग रहने लगे थे।

Download the UT Android App for more news and updates from Udaipur

कुलदीप ने पुलिस को बताया कि अलग रहने के बाद भी जगदीश और उसके दोस्त आए दिन उसे फोन पर धमकी देते और परेशान परेशान करते थे। इस सबसे परेशान होकर उसने जगदीश को मौत के घाट उतारने का मन बना लिया। 13 दिसम्बर को उसने जगदीश को कमरे पर बुलाया और साथ में शराब पी कर दोनों के बीच पुरानी बातों को लेकर झगड़ा हुआ और उसने जगदीश के सिर पर पत्थर से लगातार वार कर उसकी हत्या कर डाली और लाश को चादर में लपेट कर नाले में ले जाकर फेंक दिया। लाश को ठिकाने लगाने के बाद कुलदीप यहाँ से फरार हो गया। जिसे पुलिस ने मंगलवाड़ चौराहे से धर दबोचा।

इधर जगदीश के गायब होने पर उनके भाई ने कुलदीप को फ़ोन लगाया तो फ़ोन भी बंद मिला और दूसरे दिन कुलदीप घर छोड़कर फरार हो चूका था। जब नाले ने शव बरामद हुआ तो जगदीश का भाई लक्ष्मण भी भीड़ में खड़ा था। वहीँ पर लक्ष्मण ने अपने भाई की लाश को पहचान लिया और शव की शिनाख्त की। पुलिस के मौके से जानकारी हासिल की और कुलदीप के घर की तलाशी में मिले सबूतों के आधार पर कुलदीप की तलाश कर उसे धर दबोचा और मामले का खुलासा किया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal