ठंड का संदेशा लेकर बर्ड विलेज मेनार पहुंंचे मेहमान परिंदे

ठंड का संदेशा लेकर बर्ड विलेज मेनार पहुंंचे मेहमान परिंदे

मेनार में पहली बार डेमोसिल क्रेन (कुरजां) को भी देखा गया है

 
bird village menar

20, नवंबर । शीत प्रदेशो में बर्फ गिरने और सर्दी में इजाफा होने के साथ पक्षियों का देश के विभिन्न हिस्सों में पहुंंचना शुरू हो गया है। बर्ड विलेज के नाम से मशहूर मेनार के जलाशयों पर विदेशी परिंदों का आना शुरू हो गया है । अब तक 200 से अधिक देशी-विदेशी प्रजातियों के पक्षियों ने अपनी आमद दर्ज कराई है, अन्य परिंदों का आना भी जारी है। ये परिंदे मंगोलिया, साइबेरिया, रूस, अफगानिस्तान, कजाकिस्तान समेत अन्य देशों से 5 हज़ार किमी तक का सफ़र तय कर यहाँ पहुंचते है। शाम होते ही धण्ड तालाब पर डूबते सूरज और इन मेहमान परिंदों का नजारा काफ़ी दिलकश होता है। 

अमूमन ये परिंदे नवंबर माह में मेनार आना शुरू करते हैं, लेकिन इस बार ये अक्टूबर से ही पहुंचना शुरू हो गए। जैसे-जैसे सर्दी पड़ेगी इनकी संख्या में इजाफा होने की संभावना है। ये पूरी सर्दियां यहीं बिताएंगे। मार्च और अप्रैल माह में इनकी वापसी शुरू हो जाएगी। बता दें कि मेनार के दोनों तालाब पर प्रतिवर्ष करीब 150 प्रजातियों के देशी विदेशी परिंदा डेरा डालते हैं। धण्ड तालाब, ब्रह्म सागर एवं आसपास के इलाकों में कुछ देशी और विदेशी पक्षियों का कलरव बरबस लोगों को अपनी ओर खींच रहा है। 

डेमोसिल क्रेन (कुरजां) को भी मेनार में पहली बार देखा गया 

पक्षी प्रेमी दर्शन मेनारिया ने बताया कि मेनार में पहली बार डेमोसिल क्रेन (कुरजां) को भी देखा गया है। डेमोसिल क्रेन को प्रदेश में कुरजां के नाम से जाना जाता है। यह अमूमन पश्चिमी राजस्थान में नागौर जिले का रुख करते हैं। माना जा रहा है यह पक्षी अपने झुंड से बिछड़कर कॉमन क्रेन के साथ यहां आ गया।

साइबेरिया, रूस, अफगानिस्तान, कजाकिस्तान जैसे देशों से आए पक्षी

मेनार में अभी पैरेग्रिन फाल्कन, इसेबलीन व्हीटर, डेजर्ट व्हीटर, ब्लैक हेडेड बंटिंग, रेड हेडेड बंटिंग, ग्रेटर फ्लेमिंगो, कॉमन क्रेन, व्हाइट येलो एवं ग्रे वेग्टेल्स, कॉमन पोचार्ड, यूरेशियन विजन, टफ्टेड डक, नॉर्दन शोवलर, ग्रीन विंग्ड टील, रडी शेल्डक, ग्रेलैग गीज, बार हेडेड गीज, मार्श हेरियर, स्टेप्पी ईगल, शॉर्ट टोड स्नेक ईगल, ग्रेट कॉर्पोरेंट, साइबेरियन स्टोनचेट, पाइड बुश चैट जैसे प्रवासी परिंदे देखे जा रहे हैं। इसके साथ ही स्थानीय पक्षियों में सफेद टिकड़ी, छोटी डुबडूबी, ग्रेट क्रेस्टेड ग्रीब, कॉटन पिग्मी गूज, कॉम डक, स्पॉट बिल्ड डक, ओरिएंटल डार्टर, इंडियन कॉमरिंट, स्केली ब्रेस्टेड मुनिया, पाइड किंगफिशर, पेंटेड स्टोर्क, ग्रे एंड पर्पल हेरोन, पेंटेड स्टार्क, ब्लैक नेक्ड स्टॉर्क आदि प्रजाति के पक्षी भी आए हुए हैं।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal