विधी के कंठ से निकली भजनो, ग़ज़लों, लोक और सूफी गीतों की सरिता


विधी के कंठ से निकली भजनो, ग़ज़लों, लोक और सूफी गीतों की सरिता

पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र की ओर से शिल्पग्राम में आयोजित ‘‘शरद रंग’’ व एक्जाॅटिक फूड फेस्टीवल के दूसरे दिन शाम को मुक्ताकाशी रंगमंच पर दिल्ली की गायिका विधी शर्मा ने अपनी रेशमी और मधुर आवाज़ में सुरीली बंदिशें पेश कर दर्शकों के कानों को सुरों के मिठास का आभास सा करवा दिया।

 
UT WhatsApp Channel Join Now

विधी के कंठ से निकली भजनो, ग़ज़लों, लोक और सूफी गीतों की सरिता

पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र की ओर से शिल्पग्राम में आयोजित ‘‘शरद रंग’’ व एक्जाॅटिक फूड फेस्टीवल के दूसरे दिन शाम को मुक्ताकाशी रंगमंच पर दिल्ली की गायिका विधी शर्मा ने अपनी रेशमी और मधुर आवाज़ में सुरीली बंदिशें पेश कर दर्शकों के कानों को सुरों के मिठास का आभास सा करवा दिया।

विधी ने अपने गायन की शुरूआत भजन से की इसके बाद अपनी परिचित शैली में उन्होंने चंद ग़ज़लें पेश की। जिसमें फैज़ अहमद फैज़ की ‘‘कब याद में तेरा साथ नहीं….’’ को सुरीले अंदाज में सुनाया इसके बाद उन्होंने वसीम बरेलवी का कलाम ‘ज़रा कतरा कीं आज उभरता है समंदरों के ही लहज़े में बात करता है’’ सुनाई तो दर्शकों ने करतल ध्वनि से विधी का अभिवादन किया। अपनी लोकप्रिय एलबम ‘आमद’’ से विधी ने रूप् सागर की रचना व तौसीफ अख्तर द्वारा संगीतबद्ध गीत ‘‘पलकों पे कोई खाब सजाना तो चाहिये, जीने का ज़िन्दगी में कोई बहाना तो चाहिये’’ सुना कर दर्शकों को मंत्रमुग्ध सा कर दिया।

Download the UT Android App for more news and updates from Udaipur

इसके बाद विधी ने लोक गीतों से अपने कंठ का माधुर्य बिखेरा मगर दर्शकों को सर्वाधिक आनन्द सूफी गीतों में आया। जिसमें उन्होंने पहले कबीर की रचना ‘‘घूघट के पट खोल तोहे पी मिलेंगे’’ सुनाया। इसके बाद पारंपरिक सूफी ‘‘छाप तिलक सब छीनी मोसे नैना मिलाइके’’ और ‘‘मस्त कलंदर’’, ‘‘ओ री सखी मंगल गावो नी..’’ सुना कर दर्शकों को आनन्दित सा कर दिया। विधी के साथ बांसुरी पर पंडित अजय प्रसन्ना, तबले पर गौरव राजपूत, परकशन पर सतीश सोलंकी तथा की बोर्ड पर हेमन्त सैकिया ने संगत की। इससे पूर्व केन्द्र निदेशक फुरकान खान ने विधी शर्मा व साथी कलाकारों का स्वागत किया।

विधी के कंठ से निकली भजनो, ग़ज़लों, लोक और सूफी गीतों की सरिता

इससे पूर्व दोपहर में फूड फेस्टीवल में शिल्पग्राम आने वाले लोगों ने वाहिद के स्टाॅल पर कबाब और पास के स्टाॅल पर राजस्थानी व्यंजन के साथ-साथ चाट पकौड़ी, क्रिस्पी डोसा, छोला भटूरा आदि का स्वाद चखने के साथ लोक कला प्रस्तुतियों का आनन्द उठाया। बंजारा रंगमंच पर प्रवीण गौतम व उनके साथियों ने विभिन्न फिल्मी व गैर फिल्मी गीत सुना कर लागों का मनोरंजन किया।

शरद रंग में आज: पांच दिवसीय शरद रंग के तीसरे दिन शिल्पग्राम में सांध्यकालीन कार्यक्रम के अंतर्गत राजस्थान उर्दू अकादमी के तत्वावधान में आॅल इंडिया मुशायरे का आयोजन होगा जिसमें देश के कई नामचीन शायर शिरकत करेंगे।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal