नौ करोड़ का भैंसा 'युवराज' होगा आकर्षण का केंद्र

नौ करोड़ का भैंसा 'युवराज' होगा आकर्षण का केंद्र

कल से दो दिवसीय संभाग स्तरीय किसान महोत्सव का आगाज

 
yuvraj

उदयपुर 25 जून 2023। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की पहल पर राज्य के किसानों को कृषि जगत की नवीन तकनीकों से रूबरू करवाने के उद्देश्य से उदयपुर में कल से दो दिवसीय संभाग स्तरीय किसान महोत्सव का आगाज होने जा रहा है। यह किसान महोत्सव 26 व 27 जून को उदयपुर में बलीचा स्थित कृषि उपज मंडी सबयार्ड में आयोजित किया जाएगा। 

जिला कलक्टर ताराचंद मीणा ने बताया कि किसान महोत्सव को लेकर सभी आवश्यक तैयारियां पूर्ण कर ली गई है एवं जिला प्रशासन द्वारा इसके सफलतम आयोजन का प्रयास किया जा रहा है।

किसान महोत्सव के दौरान हरियाणा के किसान कर्मवीर के भैंसे 'युवराज' को भी प्रदर्शित किया जाएगा। इसकी कीमत लगभग नौ करोड़ रुपए बताई जाती है। मुर्रा नस्ल का यह भैंसा विश्वप्रसिद्ध है और किसानों को पशुपालन के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए इसे यहां लाया जाएगा।

विशाल एसी पंडाल में एक साथ बैठ सकेंगे बीस हजार किसान

ग्रीष्म ऋतु को देखते हुए विभाग द्वारा इवेंट मैनेजमेंट कंपनी के माध्यम से विशाल वातानुकूलित पंडाल स्थापित किया गया है जिसमें एक साथ 20000 किसानों के बैठने की व्यवस्था की गई है। इसके अतिरिक्त किसानों के लिए वेटिंग एरिया, प्रदर्शनी स्थल और पार्किंग के लिए भी उचित व्यवस्थाएं की जा रही हैं। कोशिश यही है कि विभिन्न जिलों से आने वाले किसानों को यहां किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं हो।
जिला कलेक्टर के निर्देशानुसार कार्यक्रम स्थल तथा हेलीपेड व्यापक इंतजाम के साथ संभागभर से आने वाले किसानों के आवागमन, बैठक व्यवस्था, चैक पोस्ट, बसों की सुविधा, पार्किंग, चिकित्सा सुविधा आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की गई है।
 
जाजम चौपाल होगी, उन्नत कृषि प्रविधियों व नवाचारों की मिलेगी जानकारी

दो दिवसीय महोत्सव के दौरान जिला प्रशासन के तत्वावधान में कृषि, उद्यानिकी एवं पशुपालन विभाग की ओर से विभिन्न सत्रों में जाजम चौपाल आयोजित की जाएगी। इसमें विभिन्न विशेषज्ञों एवं अधिकारियों द्वारा कृषकों को राजकीय योजनाओं, तकनीकी नवाचारों एवं विभिन्न पहलुओं पर किसानों-पशुपालकों को उपयोगी जानकारी दी जाएगी। विभिन्न सत्रों में विभागवार आयोजित होने वाली इस जाजम चौपाल में ख़रीफ फसल की उन्नत खेती तकनीक, जैविक प्राकृतिक कृषि, टिकाऊ कृषि और कुपोषण उन्मूलन के लिए बाजरा की भूमिका, कृषि एवं उद्यानिकी के लिए सरकार की ओर से संचालित विभिन्न कृषक कल्याणकारी योजनाएं, बागवानी में संरक्षित खेती का महत्व, औद्योगिक विकास के लिए स्थानीय फलों और सब्जियों का प्रसंस्करण और मूल्यवर्धन की जानकारी दी जाएगी।

खेती की नवीन तकनीकों से रूबरू होंगे किसान

महोत्सव में किसानों को नवीनतम कृषि प्रवृत्तियों से रूबरू करवाया जाएगा । इसके तहत मशरूम की खेती की आधुनिक तकनीक, किसानों की आय बढ़ाने में किसान उत्पादक संगठन की भूमिका, अतिरिक्त आय के लिए बकरी पालन, मुर्गी पालन, भेड़ पालन और डेयरी फार्मिंग, पशुओं के सामान्य रोग एवं उनकी रोकथाम वं नियंत्रण, सतत आजीविका भोजन और पोषण सुरक्षा के लिए मत्स्य पालन और जलीय संस्कृति, डेयरी उत्पादों को बढ़ावा देने व पशु पोषण में उन्नत तकनीक, राजस्थान का कृषि बजट, फसलों को सुरक्षा, कृषि उत्पादकता
बढ़ाने के लिए कृषि मशीनीकरण एक कुंजी, जलवायु अनुकूल कृषि के लिए मिट्टी और जल संरक्षण, पुष्पकृषि को बढ़ावा देना, दुधारू पशुओं का चयन एवं प्रबंधन, गाय-भैंसों में प्रजनन संबंधी विकार की रोकथाम राजस्थान में देशी नस्लों का संरक्षण के साथ विभिन्न कृषक कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी जाएगी।

जनाधार कार्ड और बिजली बिलों की प्रति साथ लाएं कृषक

कलेक्टर ने बताया कि इस दो दिवसीय आयोजन के दौरान कृषक हित की योजनाओं व कार्यक्रमों का व्यापक प्रचार प्रसार करते हुए किसानों को लाभान्वित किया जाएगा। कलेक्टर ने बताया कि किसानों को योजनाओं का लाभ लेने के लिए अपना जनाधार कार्ड और बिजली बिलों की प्रति साथ में रखनी होगी।

20 हजार से अधिक किसान लेंगे भाग

कलक्टर ने बताया कि उदयपुर संभाग सहित आसपास के क्षेत्रों से 20 हजार से अधिक किसान भाग लेंगे। कलक्टर ने सरकार की मंशा की अनुरूप इस दो दिवसीय मेले में अधिक से अधिक किसानों की भागीदारी सुनिश्चित करने, किसानों को लाभान्वित करने एवं सफल आयोजन के लिए सौंपे गये दायित्वों का निर्वहन करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने विभिन्न जिलों से पहुंचने वाले किसानों की संख्या व उनके पंजीयन, उनके आवागमन के लिए बसों की व्यवस्थाओं, बसों के रूट चार्ट, कृषकों को किट वितरण तथा प्रति जिला 50 प्रगतिशील किसानों के चयन की सूची तैयार करने तथा जाजम (चौपाल) व सेमीनार आयोजन हेतु कृषकों की भागीदारी आदि को लेकर विभिन्न विभागीय अधिकारियों को दायित्व सौंपे हैं।

महोत्सव के दौरान महंगाई राहत कैंप का भी होगा आयोजन

जिला कलक्टर ताराचंद मीणा ने बताया कि संभाग स्तरीय किसान मेले में 20,000 से अधिक किसानों के आगमन को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा किसानों के लिए विशेष रुप से महंगाई राहत कैंप की कैनोपी लगाई जाएगी और यहां पर किसानों से संबंधित योजनाओं के पंजीकरण की व्यवस्था भी की जाएगी। उन्होंने मेले में भाग लेने वाले किसानों से आह्वान किया है कि कोई भी किसान चाहे वह किसी भी जिले से आए तो वह मेला स्थल पर लगाई गई कैनोपी पर पहुंचकर राज्य सरकार द्वारा महंगाई राहत कैंप में दी जा रही जा रही योजनाओं का पंजीकरण करवा सकता है। कलक्टर ने बताया है कि महंगाई राहत कैंप की कैनोपी स्थल पर पंजीकरण के लिए कार्मिकों की नियुक्ति की गई है और अन्य समस्त अपेक्षित व्यवस्थाएं की जा रही है।

लाइव स्मार्ट फार्म होगा मुख्य आकर्षण

कृषि विभाग के उपनिदेशक माधोसिंह चम्पावत ने बताया कि इस दो दिवसीय आयोजन के मुख्य आकर्षण का केन्द्र स्मार्ट फॉर्म का जीवंत प्रदर्शन होगा। इस स्मार्ट फॉर्म में शेड मेट, पॉली हाउस, फार्म पाउण्ड, ड्रीप सिस्टम, अत्याधुनिक मशीनरी, समन्वित कृषि आदि का जीवन्त प्रदर्शन किया जाएगा जो किसानों को नवीन कृषि तकनीक की जानकारी देगा। इसके अतिरिक्त पशुपालन विभाग की ओर से भी एक फार्म तैयार कर पालतु पशुओं का जीवंत प्रदर्शन किया जाएगा जिसके उन्नत किस्म के गौवंश, भैस, मुर्गियां आदि के बारे में किसान व पशुपालकों को उपयोगी जानकारी दी जाएगी।

100 से अधिक स्टॉल्स पर मिलेगी उपयोगी जानकारी

संभाग स्तरीय मेले में कृषि विश्वविद्यालय, कृषि विभाग सहित अन्य विभागों की ओर से 100 से अधिक स्टॉल्स लगाई जाएगी। इन स्टॉल्स पर कृषकों को विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के साथ उन्नत कृषि, नवीन तकनीक, मशीनरी का उपयोग, उद्यानिकी, समन्वित कृषि सहित कृषक हित से जुड़ी जानकारी प्रदान की जाएगी। इन स्टॉल्स में विभिन्न प्राइवेट कंपनियों यथा उर्वरक निर्माता, बीज वितरक व उत्पादक, पेस्टीसाइज, उपयोगी दवाएं आदि स्टॉल भी शामिल होगी।

संभाग भर से किसान लेंगे भाग

किसान मेले में अधिक से अधिक किसानों की भागीदारी सुनिश्चित करने के उद्देश्य से जिलेवार निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप उदयपुर जिले से 4005, बांसवाड़ा से 2880, डूंगरपुर, प्रतापगढ़, चित्तौड़गढ़, राजसमंद व भीलवाड़ा से 2520-2520 तथा सिरोही से 552 कृषक भाग लेंगे। वहीं इस मेले में महिला कृषकों की भागीदारी रहेगी जिसके तहत उदयपुर से 900, बांसवाड़ा, डूंगरपुर, प्रतापगढ़ व चित्तौड़गढ़ से 450-450, राजसमंद से 180, भीलवाड़ा से 630 व सिरोही से 90 महिला कृषक भाग लेंगी।

57 प्रोटोकोल-समन्वय अधिकारी लगाएं

जिला कलेक्टर ताराचंद मीणा ने एक आदेश जारी कर दो दिवसीय संभाग स्तरीय किसान मेले में अति विशिष्ट, विशिष्ठ अतिथिगण, केन्द्रीय मंत्रीगण, मंत्रीगण, उच्चाधिकारी आदि के आगमन को देखते हुए 57 प्रोटोकोल-समन्वय अधिकारी लगाएं है। इस आदेश के तहत संबंधित अधिकारी 26 व 27 जून को बिना  अनुमति के मुख्यालय नहीं छोड़ेंगे। जिन अतिथि के साथ प्रोटोकोल-लाईजन अधिकारी के रूप में नियुक्त किया जाएगा, उनका कार्यक्रम प्राप्त होने पर उसके आदेश पृथक से प्रेषित किए जाएंगे साथ ही संबंधित अधिकारी मोबाइल पर भी उपलब्ध रहेंगे।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal