उदयपुर मे बनेगा प्रभु श्री मदन मोहन भगवान का भव्य मंदिर

उदयपुर मे बनेगा प्रभु श्री मदन मोहन भगवान का भव्य मंदिर

‘‘कामवन धाम’’ हवेली का भव्य भूमि पूजन रविवार को
 
उदयपुर मे बनेगा प्रभु श्री मदन मोहन भगवान का भव्य मंदिर
बाबा श्री ने बताया कि प्रभु के मंदिर निर्माण के लिए वेणुनाद आर्गेनाइजेशन ट्रस्ट मे मुख्य ट्रस्टी नारायण असावा, पंकज तोषनीवाल को उपाध्यक्ष, सुभाष गुप्ता को कोषाध्यक्ष, मनीष पारिख को मंत्री, गिरिराज महाजन ट्रस्टी, दिनेश गौड ट्रस्टी, दिलीप खण्डेलवाल ट्रस्टी, अजेश सेठी विधि सहायक और सीए प्रवीण अग्रवाल को अलग- अलग जिम्मेदारीयां दी गई है एवं उदयपुर शहर के गणमान्य प्रतिष्ठित, धर्मनिष्ठ बंधुओं, समाजजन को साथ लेकर धाम को एक पावन तीर्थ बनाने का प्रबल प्रयास करेंगे। 

उदयपुर। धर्म नगरी उदयपुर की पावन धरा पर वैष्णवजनो की आस्था को और अधिक प्रगाढ़ करते हुए शहर के अम्बेरी- देबारी ने. हा. 76 पर पुष्टीमार्गीय संप्रदाय के प्रभु श्री मदन मोहन भगवान के भव्य मंदिर का निर्माण होने जा रहा है। वेणुनाद आर्गेनाइजेशन ट्रस्ट उदयपुर की और से बनने वाले इस भव्य कामवन धाम हवेली मंदिर का भूमि पूजन रविवार को मंदिर के सर्वाध्यक्ष वैष्ण्वाचार्य परम पुज्य गोस्वामी 108 हरिराय बाबा और वैष्ण्वाचार्य परम पुज्य गोस्वामी 108 गोपाल लाल महाराज के पावन सानिध्य मे मंदिर स्थल पर होगा।

वेणुनाद आर्गेनाइजेशन ट्रस्ट के सर्वाध्यक्ष हरिराय बाबा श्री ने बताया कि उदयपुर की पावन धरा सदैव ही शौर्य, पराक्रम और धर्म नगरी के रूप मे पूरे विश्व मे विख्यात है। ऐसे मे उदयपुर के प्रभु भक्तों और वैष्णवजनों के लिए यह कामवन धाम उनकी प्रभु भक्ति और आस्था को और अधिक मजबूती प्रदान करेंगा। 

उन्होने बताया कि 35 हजार स्क्वायर फिट मे बनने वाले इस भव्य मंदिर मे उदयपुर की पुण्य एवं संस्कारी धरा पर कामवन धाम पुष्टिमार्गीय हवेली का निर्माण होगा। मंदिर मे रोजाना प्रभु के मंगला, ग्वाल, श्रृंगार, राजभोग, उत्थापन, भोग, आरती और शयन के दर्शन हजारों- लाखों भक्तों को लाभान्वित करेंगे। इसके साथ ही वार्षिक मनोरथ के रूप मे फाग महोत्सव, सावन मास महोत्सव, जनमाष्टमी महोत्सव, दिपावली एवं मगोवर्धन पूजाप महोत्सव के साथ ही समय - समय पर वैष्णवजनों के लिए वचनामृत के कार्यक्रम भी होंगे।

पुष्टीमार्ग मंदिर मे पहली बार बनेगा एम्फी थियेटर

आचार्य हरिराय ने बताया कि कामवन धाम मंदिर हवेली मे सर्वप्रप्रथम मंदिर प्रांगण का निर्माण होगा। इसके साथ ही प्रभु का निज मंदिर, गर्भ गृह, आचार्य निवास, गौशाला, अतिथि भवन, जल मंदिर, कुण्ड एवं बगीचे, गोवर्धन चैक मे अन्नकूट गोवर्धन पूजन, आने - जाने वाले भक्तगणो के लिए 30 कमरे, अंडरग्राउंड पार्किंग सहित अन्य व्यवस्थाएं होगी। 

आचार्य श्री ने बताया कि मंदिर प्रांगण मे विशेष तौर से पूष्टीमार्गीय मंदिर मे पहली बार रतन चौक का निर्माण होगा जिसमे एम्फी थियेटर स्थापित किया जायेगा। इस एम्फी थियेटर मे 200 लोगो के बैठने की व्यवस्था होगी। थियेटर मे राजस्थानी कार्विंग वाले खंभे लगाये जायेंगे। जिसमे हर खंभे पर आकर्षक लाईट व्यवस्था होगी। इस एम्फी थियेटर मे लाईट  एंड साउंड शाॅ का आयोजन होगा जिसमे नाटीका और भक्ति संध्या के माध्यम से पुष्टीमार्गीय संप्रदाय के इतिहास को प्रदर्शित किया जायेगा। इन सुविधाओं के साथ यह मंदिर एक पर्यटन स्थल और धार्मिक धाम के रूप मे अपनी विशेष जगह बनायेगा जिस पर लोग गर्व महसूस कर सकेंगे।

आधुनिक भोजनशाला मे बनेगा वैष्ण्वजनो के लिए प्रसाद

कामवन धाम मंदिर हवेली मे आधुनिक भोजनशाला का निर्माण किया जायेगा जहां प्रभु मदन मोहन जी को धराया गया भोग प्रसाद वैष्णवजनों के लिए उपलब्ध होगा। इसके साथ ही मंदिर मे वेंडिग मशीने भी लगाई जायेगा जिसमे पैसे डालने पर प्रभु को धराया गया भोग प्रसाद, दूध और भोजन मिलेगा।

भारतीय ध्वज फहराने की भी है योजना

आचार्य हरिराय बाबा श्री ने बताया कि मंदिर मे जहां प्रभु मदन मोहन जी भगवान की धर्म पताका सदैव फहराती रहेगी वहीं भविष्य मे यह भी योजना है कि अगर सरकार से अनुमति मिलेगी तो मंदिर मे भारतीय ध्वज को भी फहराया जायेगा जिससे धर्म के साथ देश प्रेम की भावना को भी बल मिले।

इन पदाधिकारियों को दी है जिम्मेदारी

बाबा श्री ने बताया कि प्रभु के मंदिर निर्माण के लिए वेणुनाद आर्गेनाइजेशन ट्रस्ट मे मुख्य ट्रस्टी नारायण असावा, पंकज तोषनीवाल को उपाध्यक्ष, सुभाष गुप्ता को कोषाध्यक्ष, मनीष पारिख को मंत्री, गिरिराज महाजन ट्रस्टी, दिनेश गौड ट्रस्टी, दिलीप खण्डेलवाल ट्रस्टी, अजेश सेठी विधि सहायक और सीए प्रवीण अग्रवाल को अलग- अलग जिम्मेदारीयां दी गई है एवं उदयपुर शहर के गणमान्य प्रतिष्ठित, धर्मनिष्ठ बंधुओं, समाजजन को साथ लेकर धाम को एक पावन तीर्थ बनाने का प्रबल प्रयास करेंगे।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal