ग्रामीण बालिकाओ ने पहली बार देखी फतहसागर झील


ग्रामीण बालिकाओ ने पहली बार देखी फतहसागर झील

यह पहला मौका था जब ग्रामीण अंचल की नन्ही बालिकाए अपने गांव से निकलकर उदयपुर शहर के फतहसागर आई थी। उनके चहरे की खुशी एवं देश की बेटियो को पढ़ाने का सन्देश देने के जोश और उत्साह को देख फतहसागर घूमने आए हर एक व्यक्ति ने नन्ही बालिकाओ की सराहना की। यह मौका बालिकाओ को IIFL फाउन्डेशन एंव गायत्री सेवा संस्थान, उदयपुर द्वारा चलाए जा रहे फ्रिडम वीक के समापन के अवसर पर मिल पाया।

 
UT WhatsApp Channel Join Now

ग्रामीण बालिकाओ ने पहली बार देखी फतहसागर झील

यह पहला मौका था जब ग्रामीण अंचल की नन्ही बालिकाए अपने गांव से निकलकर उदयपुर शहर के फतहसागर आई थी। उनके चहरे की खुशी एवं देश की बेटियो को पढ़ाने का सन्देश देने के जोश और उत्साह को देख फतहसागर घूमने आए हर एक व्यक्ति ने नन्ही बालिकाओ की सराहना की। यह मौका बालिकाओ को IIFL फाउन्डेशन एंव गायत्री सेवा संस्थान, उदयपुर द्वारा चलाए जा रहे फ्रिडम वीक के समापन के अवसर पर मिल पाया।

इस अवसर पर गायत्री सेवा संस्थान के निदेशक डाॅ. शैलेन्द्र पण्ड्या ने जानकारी देते हुए कहा “संस्थान द्वारा बालिका शिक्षा कार्यक्रम अन्तर्गत IIFL फाउन्डेशन के साथ मिलकर 15 अगस्त से 19 अगस्त 2018 तक उदयपुर के दूर-दराज पिछडे़ क्षेत्रों में विभिन्न गतिविधियो का आयोजन किया गया। समापन के अवसर पर हमारी टीम ने आज उदयपुर जिले की उन जनजाति बालिकाओ जिन्होंने शहर देखने की इच्छा जाहिर की थी उन्हें आज फतहसागर की पाल पर लाकर सभी बालिकाओं से चित्रकला प्रतियोगिता करवाई गई।”

Click here to Download the UT App

गायत्री सेवा संस्थान के मुख्य कार्यकारी अधिकारी चेतन पाण्डे ने बताया कि इस आयोजन का उद्देश्य बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के साथ आए दिन बालिकाओ के साथ हो रहे यौन हिंसा, दुष्कर्म के खिलाफ आमजन को जागरूक करना है। इस पूरे सप्ताह में संस्थान द्वारा बालिकाओ को गुड टच-बेड टच, आत्मरक्षा एवं बाल अधिकारो की जानकारी दी गई।

ग्रामीण बालिकाओ ने पहली बार देखी फतहसागर झील

फतहसागर पर लगे संकल्प बैनर पर उदयपुर एवं आस-पास से सैर करने आए लगभग 200 लोगो ने हस्ताक्षर कर बेटियो के बचाने एवं पढ़ाने की मूहिम में सहयोग देने का संकल्प लिया।

इस कार्यक्रम में बालिकाओ के उत्साहवर्धन हेतु यूनिसेफ प्रतिनिधी सिन्धु बर्नेजित, बाल कल्याण समिति उदयपुर के सदस्य डाॅ. राजकुमारी भार्गव, बी. के. गुप्ता, परियोजना अधिकारी मनीष शर्मा, जिग्नेश दवे, भास्कर जोशी, फराह खान, मनजीत सिह चोधरी सहित बड़ी संख्या में उदयपुर के युवा मौजूद रहे।

ग्रामीण बालिकाओ ने पहली बार देखी फतहसागर झील

अन्त में सबसे बेहतरीन ड्राइंग करने वाली गांव उम्वीया घाटी की रिना मीणा, कुन्डडा फला की हकरी मीणा, गिर्वा ब्लाॅक की राधा मीणा को पारितोषिक दिया गया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal