कोरोना संक्रमण से ग्रसित गंभीर रोगियों का गीतांजली हॉस्पिटल में हो रहा है सफल इलाज

कोरोना संक्रमण से ग्रसित गंभीर रोगियों का गीतांजली हॉस्पिटल में हो रहा है सफल इलाज

 
कोरोना संक्रमण से ग्रसित गंभीर रोगियों का गीतांजली हॉस्पिटल में हो रहा है सफल इलाज
हाल ही में कोरोना से संक्रमित हुए 42 वर्षीय डायबिटीज़ के रोगी का पल्मोनोलोजिस्ट व श्वसन रोग विशेषज्ञ डॉ. अतुल लुहाड़िया, डॉ. अदित ज़ोटा व गीतांजली हॉस्पिटल की कोविड समर्पित टीम द्वारा रोगी का सफलतापूर्वक इलाज हुआ व रोगी को कोरोना संक्रमण से मुक्त कर उसे स्वस्थ जीवन प्रदान किया गया। 

कोरोना महामारी से संक्रमित व्यक्ति को ना सिर्फ शारीरिक बल्कि मानसिक तौर पर भी बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है परन्तु ऐसे समय में रोगी का सही मार्गदर्शन, सर्व सुविधाओं से लेस हॉस्पिटल और डॉक्टर द्वारा सही जांच कर समय से इलाज रोगी को नया जीवन प्रदान कर सकता है।  

गीतांजली मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल, उदयपुर में कोरोना के रोगियों व अन्य गंभीर बिमारियों से ग्रसित रोगियों का कोरोना से जुड़े सभी आवयशक नियमों का पालन गंभीरता से करते हुए इलाज किया जा रहा है। हाल ही में कोरोना से संक्रमित हुए 42 वर्षीय डायबिटीज़ के रोगी का पल्मोनोलोजिस्ट व श्वसन रोग विशेषज्ञ डॉ. अतुल लुहाड़िया, डॉ. अदित ज़ोटा व गीतांजली हॉस्पिटल की कोविड समर्पित टीम द्वारा रोगी का सफलतापूर्वक इलाज हुआ व रोगी को कोरोना संक्रमण से मुक्त कर उसे स्वस्थ जीवन प्रदान किया गया। 

डॉ. अतुल ने बताया कि उदयपुर निवासी जीतेन्द्र सिंह (परिवर्तित नाम), 42 वर्षीय डायबिटीज़ के रोगी हैं। पांच दिन से रोगी को खांसी, ज़ुकाम और बुखार की शिकायत थी, जब रोगी को गीतांजली हॉस्पिटल के इमरजेंसी में लाया गया तब उसका ऑक्सीजन लेवल 75-80% आ रहा था। रोगी की हालत को देखेते हुए उसका तुरंत सी.टी स्कैन किया गया| रोगी का  सी.टी स्कोर 25 में से 17 आ रहा था, जिसका अभिप्रायः है कोरोना वायरस ने फेफेड़ों को काफी संक्रमित कर दिया था। रोगी की स्थिति को देखते हुए उसे तुरंत आई.सी.यू. में भर्ती किया गया, रोगी का कोविड- 19 आर.टी.पी.सी.आर टेस्ट भी करवाया गया जोकि पॉजिटिव आया। रोगी की हालत ख़राब हो रही थी व शरीर में ऑक्सीजन लेवल की मात्रा कम होती जा रही थी। रोगी को एंटीबायोटिक्स, स्टेरोइड्स, खून पतला करने की दवा, रेम्देसेवियर, विटामिन-सी इत्यादि सभी आवयशक दवाएं दी गयी। 

रोगी की ऑक्सीजन की कम होती मात्रा को देखते हुए उसे प्लाज़्मा भी दिया गया। रोगी की स्थिति गंभीर थी उसका पहले दिन से ही जल्द इलाज शुरू कर दिया था व ऑक्सीजन लेवल को निरंतर मोनिटर किया गया, रोगी 15 लीटर ऑक्सीजन पर पहुँच चुका था जोकि बहुत हाई-लेवल माना जाता है। रोगी में गंभीर स्थिति से धीरे-धीरे सुधार आना शुरू हुआ और ऑक्सीजन की आवश्यकता कम होती गयी जिससे रोगी ठीक होने की और बढ़ने लगा। धीरे- धीरे रोगी में सुधार आता गया और रिपीट कोरोना सैंपल किया गया जिसमे वह नेगेटिव हो चुका था। अब रोगी को हॉस्पिटल द्वारा छुट्टी दे दी गयी है एवं ज़रूरी दवाइयों लेने की हिदायत दी गयी है। अभी रोगी घर पर हैं एवं अच्छा स्वस्थ महसूस कर रहें हैं। 

उल्लेखनीय है कि गीतांजली हॉस्पिटल सभी अत्याधुनिक सुविधाओं और डॉक्टर्स व स्टाफ के साथ रोगियों के इलाज हेतु सदेव तत्पर है| गीतांजली मेडिकल कॉलेज एवं हॉस्पिटल, उदयपुर पिछले सतत्  वर्षों से एक ही छत के नीचे सभी विश्वस्तरीय सेवाएँ दे रहा है।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal