सेंट्रल अकेडमी में फीस को लेकर फिर हंगामा

सेंट्रल अकेडमी में फीस को लेकर फिर हंगामा 

अभिभावक कमेटी बनाने में फर्ज़ीवाड़े का आरोप 
 
 
सेंट्रल अकेडमी में फीस को लेकर फिर हंगामा
स्कूल प्रशासन और संचालक भी फीस वृद्धि को लेकर अड़े हुए है। जबकि अभिभावको का कहना है की स्कूल ने नाजायज़ फीस वृद्धि कर उन पर अतिरिक्त बोझ डाल दिया है। यही नहीं स्कूल संचालक बच्चो की कॉपी किताब स्टेशनरी इत्यादि भी स्कूल की तय की गई दुकानों से खरीदने को बाध्य करते है। हालांकि यह कहानी प्रत्येक प्राइवेट स्कूलों की है। जो की शिक्षा के नाम पर व्यापार कर रहे है। 

उदयपुर 29 नवम्बर 2019। सरदारपुरा स्थित सेंट्रल एकेडमी स्कूल में आज फिर बढ़ी हुई फीस को लेकर अभिभावकों ने हंगामा किया। पिछले छह माह से अभिभावकों और स्कूल संचालको के मध्य छिड़ी रार अब भी जारी है। 

सेंट्रल अकेडमी के अभिभावकों ने स्कूल प्रशासन पर आरोप लगाया की स्कूल ने अभिभावक कमेटी बनाने के नाम पर उनके साथ फर्जीवाड़ा किया है। आज स्कूल प्रशासन ने अभिभावकों को स्कूल बुलाया जहाँ अभिभावक कमेटी बनाने की बात कही गई थी। लॉटरी सिस्टम द्वारा अभिभावकों का चयन किया जाना था। अभिभावकों का कहना है की लॉटरी में उन अभिभावको का चयन किया गया जो मौके पर मौजूद ही नहीं थे। जब वहां मौजूद अभिभावकों में से ही कमेटी बनाने को कहा गया तो स्कूल प्रशासन ने नकार दिया। 

इससे पूर्व भी जून माह और नवम्बर माह में फीस को लेकर अभिभावकों और स्कूल प्रशासन में विवाद हो चूका है। लेकिन अब तक समस्या का समाधान नहीं निकल पाया है। इस बीच आज स्कूल में पुलिस भी पहुँच गई। सवाल उठता है की स्कूल प्रशासन, अभिभावक और हंगामो के बीच मौजद पुलिस को देखकर वहां अध्ययनरत बच्चो की मानसिकता पर क्या असर पड़ेगा ? 

स्कूल प्रशासन और संचालक भी फीस वृद्धि को लेकर अड़े हुए है। जबकि अभिभावको का कहना है की स्कूल ने नाजायज़ फीस वृद्धि कर उन पर अतिरिक्त बोझ डाल दिया है। यही नहीं स्कूल संचालक बच्चो की कॉपी किताब स्टेशनरी इत्यादि भी स्कूल की तय की गई दुकानों से खरीदने को बाध्य करते है। हालांकि यह कहानी प्रत्येक प्राइवेट स्कूलों की है। जो की शिक्षा के नाम पर व्यापार कर रहे है। 

सरकार भी इन स्कूलों पर लगाम कसने में अब तक नाकाम ही साबित हुई है। अभिभावक बच्चो के भविष्य को लेकर चिंतित रहते है और उन्हें डर रहता है की कहीं इस प्रतिस्पर्धी दौर में उनका बच्चा पीछे नहीं रह जाये इसलिए मूक रहकर अपनी जेब कटवाने को तैयार रहते है। 
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal