मिसेज इंडिया द गॉडेस पेजेंट के आयोजन में बॉलीवुड अभिनेत्री रिमी सेन

मिसेज इंडिया द गॉडेस पेजेंट के आयोजन में बॉलीवुड अभिनेत्री रिमी सेन

आकर्षक परिधानों में महिलाओं ने रैम्प वॉक कर दिया पर्यावरण स्थिरता और महिला सशक्तिरण का संदेश

 
rimi sen

उदयपुर। आमतौर पर गृहिणियों के रूप में घर में दैनिक कार्यों से लेकर परिवार को संभालने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली महिलाओं ने आकर्षक डिजायनर परिधानों, चटक रंगों के साथ खूबसुरत ज्वैलेरी और मेकअप में रैम्प पर वॉक किया तो वहां मौजूद हर दर्शक ने उनका तालियों से स्वागत किया। मौका था उदयपुर में आयोजित मिसेज इंडिया गॉडेस पेजेंट के आयोजन का। 

आयोजन में बतौर अतिथि बॉलीवुड अभिनेत्री रिमी सेन, मधुकमल मोशन पिक्चर्स के संस्थापक मेहर अभिषेक, निदेशक मधुकमल मोशन पिक्चर्स रूश्मि डाके, रमाडा रिजॉर्ट एंड स्पा उदयपुर के निदेशक सुनील तलदार एवं श्रीमती डॉली तलदार, फर्स्ट हाउते ट्रेंडी ज्वैलरी के निदेशक, सुहास मालवीय ने महिलाओं का उत्साह वर्धन किया। इस फैशन शो की थीम पर्यावरणीय स्थिरता और महिला सशक्तिकरण हेतु समिर्पित थी।

रैम्प पर वॉक की क्लासिक केटेगरी में सोनल अरोरा विजेता, डॉ. चिंतन चौधरी उप विजेता एवं समुेधा सिलवान्कर द्वितीय उपविजेता रही। रॉयल केटेगरी में पल्लवी चौपड़ा विजेता, वाटिका नोरियाल उपविजेता एवं बबीता वर्मा द्वितीय उपविजेता रही। एलीट केटेगरी में 55 वर्षीय अंजू गुप्ता विजेता रही। इसके अलावा 50 वर्ष से अधिक की उम्र की महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए विशेष अवार्ड प्रदान किया गया। कार्यक्रम की कोर्डिनेटर मृणाली वानखड़े थी।

आयोजन के अवसर पर बॉलीवुड अभिनेत्री सुश्री रिमी सेन ने महिलाओं को जोश और उत्साह के साथ रैंप पर वॉक करते हुए देखने के बाद कहा कि जब हम 16-17 साल के होते थे तब हम सोचते कि हम अपने कैरियर में क्या करें। उस वक्त शायद हम रैंप पर चलना शुरु कर देते थे लेकिन ये वे महिलाएं हैं, जो आज कोई 13 साल तो कोई 15 साल के बच्चों की मां है। किसी ने पति को खो दिया है, तो किसी ने अपने लिए जीना छोड़ दिया है। कोई हॉउस वाइफ है तो कोई नौकरी में या बिजनेस में है। इन्होंने जिंदगी के कई उतार-चढ़ाव देखे, कई संघर्षो से रूबरू हुई है। उम्र का करीब आधे से ज्यादा हिस्सा अपने सभी रिश्तों को देने के बाद आज जाकर वह अपने लिए जीना चाहती है, यह वाकई में एक महिला शक्ति का बहुत बड़ा उदाहरण है।

इस प्रतिष्ठित मंच के माध्यम से आमजन को पृथ्वी पर उपलब्ध संसाधनों के सही और रिसायकल कर उपयोग बारे में जागरूक कराना था। इस थीम के माध्यम से महिलाओं ने संदेश दिया कि आने वाली पीढिय़ों के लिये पर्यावरण का सरंक्षण महत्वपूर्ण है ताकि उन्हें शुद्ध हवा, पेयजल और उपजाऊ जमीन की विरासत मिल सकेें।

इसके साथ ही महिला सशक्तिकरण के संदेश के रूप मेंं महिलाओं को आत्मविश्वासी और सक्षम बनाने के लिये उन्हें सतही तौर पर तैयार किया गया। प्रतियोगियों के अनुसार ‘इस मंच ने उनके बचपन के सपनों को पंख दिए हैं और पांच दिनों के गहन सत्रों के बाद भावनात्मक रूप से मजबूत महसूस किया है जिसके बाद अब वे अंतर्राष्ट्रीय मंच तलाशना चाहती हैं।

मिसेज इंडिया द गॉडेस पेजेंट का आयोजन रमाडा स्पा एंड रिसॉट्र्स में किया गया, जिसमें इन महिलाओं को पांच दिनों का प्रशिक्षण देकर मंच प्रदान किया गया।  मेहर अभिषेक और श्रीमती रश्मी डेक के अनुसार, हमारी टीम ने प्रतियोगियों को तैयार करने और इस आयोजन जुड़े सहभागियों को वास्तविक तौर पर लाभ मिलने के लिये कड़ी मेहनत की है। उनका कहना था कि हर शुरूआत छोटी होती है लेकिन एक दिन उसे बड़ा बनाया जा सकता है। मिसेज इंडिया द गॉडेस का मंच पर हर सीजन में प्रतिभाओं को मंच प्रदान कर उन्हें पहचान दिलाना गौरवान्वित करता है।  

यह कार्यक्रम विवाहित भारतीय महिलाओं के लिए आयोजित किया गया जो सौंदर्य, अनुग्रह, प्रतिभा, बुद्धिमत्ता, गौरव और करुणा का उदाहरण हैं। महिला अपने जीवनकाल में एक माँ के रूप में कई महत्वपूर्ण भूमिकाएँ निभाती है जो अपने बच्चों को मूल्य देती है। एक पत्नी होने के नाते पति की सबसे अच्छी दोस्त और  परिवार में निर्णायक भूमिका निभाती है। मधुकमल मोशन पिक्चर्स द्वारा इस फैशन शो का आयोजन का उद्धेश्य ऐसी महिलाओं की प्रतिभा को मंच प्रदान करना है जो विश्व में  अपने प्रतिनिधित्व में आत्मविश्वासी, शालीन, शिष्ट, करिश्माई और सम्माननीय पहचान की महत्वकांक्षा रखती हैं। 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal