अव्यवस्था - हज यात्रियों से अटैची के पैसे ले लिए लेकिन अभी तक नहीं मिली कोई अटैची

अव्यवस्था - हज यात्रियों से अटैची के पैसे ले लिए लेकिन अभी तक नहीं मिली कोई अटैची

उदयपुर में हुई अव्यवस्था का ज़िम्मेदार कौन ?

 
Haj

कई हजयात्रियों को कल दिल्ली जाना है, लेकिन आज दिनांक तक नहीं मिला बैगेज  

उदयपुर 7 जून 2022 । कल दिनांक 6 जून को अलीपुरा मे हाजियो का टीकाकरण एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमे उदयपुर बांसवाड़ा डूंगरपुर राजसमंद के हाजियो ने भाग लिया ।

हाजियो का टीकाकरण एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम में हज कमेटी द्वारा अटैची के नाम से प्रति हाजी 5 हजार 150 रूपये ले लिए और कहा गया की कैम्प मे उपलब्ध करा देंगे लेकिन अभी तक उपलब्ध नही करवाये गये है। जबकि कई हजयात्रियों को 8 जून को दिल्ली के लिए अपने घरो से निकलना है, उनको अटैचिया आज दिनांक 7 जून तक नही मिली है तो फिर यह पैसा क्यों लिया गया।

आम आदमी पार्टी के मुहम्मद हनीफ ने कहा की टीकाकरण हर जिले मे होना चाहिए जिससे हाजियो का समय एवं धन बर्बाद नही हो । हज कमेटी द्वारा अटैची के नाम से रूपये ले लिए लेकिन वह भी उपलब्ध नही करवाये गये है।

मुहम्मद हनीफ ने कहा की आम आदमी पार्टी अव्यस्थाओ का विरोध करती है। राजस्थान हज कमेटी को पुरी तैयारी के साथ हाजियो को बुलाना चाहिए था। राजस्थान प्रदेश से 3 हजार हाजी जाते है तो अतरिक्त भार प्रदेश के हाजियो पर डाला गया जो की न्याय संगत नही है।

उदयपुर जिला हज कमेटी के संयोजक जहीरुद्दीन सक्का ने बताया की उदयपुर और एक दो जिलों को छोड़कर सभी स्थानों के हजयात्रियों के लिए बैगेज आ गए है। लेकिन उदयपुर में कूरियर कम्पनी की गलती से वक्त पर अटैचियाँ नहीं मिल पाई।  

वहीँ कल दिल्ली जाने वाले हजयात्री ने बताया की कल उन्हें दिल्ली जाना है, और यदि उन्हें अटैची नहीं मिली तो उन्हें तत्काल अन्य इंतेज़ाम करना पड़ेगा और अगर तय मानकों के अनुसार अटैची नहीं मिली और उन्हें परेशानी पेश आती है तो इसका ज़िम्मेदार कौन होगा ? और सबसे बड़ी बात अटैची के नाम से पैसे तो ले लिए लेकिन अटैची न मिलने की दशा में एक तो उन्हें तत्काल दूसरी अटैची का इंतेज़ाम करना पड़ रहा है जबकि पैसा वह पहले ही दे चुके है। ऐसे में रिफंड के लिए फिर से कवायद करनी पड़ेगी।   
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal