डॉक्टर संदीप पुरोहित की किताब मेवाड़ पुनर्खोज का जेएलएफ में हुआ विमोचन

डॉक्टर संदीप पुरोहित की किताब मेवाड़ पुनर्खोज का जेएलएफ में हुआ विमोचन

डॉ. सीपी जोशी, डॉ. लक्ष्यराज सिंह मेवाड़, निवृत्ति कुमारी सिंह मेवाड़, भुवनेश जैन ने किया विमोचन

 
dr sandeep purohit

उदयपुर, 19 जनवरी 2023 । जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल के पहले दिन गुरुवार को वरिष्ठ पत्रकार डॉ संदीप पुरोहित की किताब मेवाड़ पुनर्खोज का विधानसभा अध्यक्ष डॉक्टर सीपी जोशी, मेवाड़ राजपरिवार के सदस्य डॉ. लक्ष्यराज सिंह मेवाड़  वरिष्ठ पत्रकार भुवनेश जैन, मेवाड़ राजपरिवार की सदस्य निवृत्ति कुमारी सिंह मेवाड़ ने विमोचन किया। 

डॉक्टर संदीप पुरोहित ने बताया कि मेवाड़ पुनर्खोज किताब में महलों, मंदिरों के अलावा मेवाड़ के शौर्य और स्वाभिमान के प्रतीक चित्तौड़गढ़ और महाराणा प्रताप दोनों की ही विशेष स्थान दिया गया है। झीलों के साथ पिछोला के घाट और उससे जुड़ी संस्कृति तीज त्यौहारों को बदलते परिवेश के साथ बताया गया है। गाड़िया लोहार से लेकर गवरी और जमरा बीज के साथ आदिवासी जनजीवन भी मेवाड़ पुनर्खोज का हिस्सा हैं।

विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीपी जोशी ने कहा कि मेवाड़ के महाराणाओं ने नाथद्वारा में श्रीनाथजी मंदिर की स्थापना से लेकर संरक्षण करने के लिए काफी सहयोग प्रदान किया। विदेशी आक्रांताओं के हमलों के दौर में महाराणा श्रीनाथजी मंदिर के संरक्षण के लिए तत्पर रहे। 

वहीं मेवाड़ पूर्व राजपरिवार के सदस्य लक्ष्यराज सिंह मेवाड़ ने कहा कि इसमें कोई शक नहीं है कि करोड़ों लोग श्रीनाथजी को अपनी आत्मा में बसाए रखते हैं। लोग उन्हें दिल से मानते हैं और पूजते हैं। लेकिन इस बात में भी कोई शक नहीं कि श्रीनाथजी मेवाड़ को अपने दिल में बसाए रखते हैं। 

इतिहासकारों ने भी कई बार कहा कि मेवाड़ ने श्रीनाथजी की रक्षा की, संरक्षण दिया। जबकि मेवाड़ इतना बड़ा नहीं है, क्योंकि श्रीनाथजी चाहते तो वे मेवाड़ नहीं, देश नहीं, बल्कि दुनिया में जहां चाहते वहां जाते और उनका चक्का वहां फंस जाता। पर यह मेवाड़ का सौभाग्य है कि श्रीनाथ बाबा ने मेवाड़ में विराजने का निर्णय लिया। हम लोगों को श्रीनाथजी की चरण सेवा का सौभाग्य मिला। उन्होंने आखिर में कहा- टूटने और बिखरने का चलन मांग लिया, हमने हालात से शीशे का बदन मांग लिया, हम भी खड़े थे तकदीर के दरवाजे पर, लोग दौलत पर गिरे, हमने वतन मांग लिया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  WhatsApp |  Telegram |  Signal

From around the web