दुर्लभ पक्षी चाइनीस धागे में उलझा

दुर्लभ पक्षी चाइनीस धागे में उलझा 

दुर्लभ पक्षी का नाम एशियाई यूली नेट स्टॉक है यह पक्षी पर्यावरण के संरक्षण के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है

 
rare species

उदयपुर 16 दिसंबर 2022 । आज यूनिवर्सिटी रोड पर एक  पेड़ पर चाइनीस धागे से एक दुर्लभ पक्षी बहुत बुरी तरह से फंस गया। दुर्लभ पक्षी का नाम एशियाई यूली नेट स्टॉक है यह पक्षी पर्यावरण के संरक्षण के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है।  

वाइल्ड एनिमल रेस्क्यू सेंटर के संभागीय वर्ल्ड रिकॉर्ड होल्डर चमन सिंह चौहान ने बताया की यूनिवर्सिटी रोड से एक पक्षी के घायल होने की सूचना प्राप्त हुई थी। सूचना पर लक्ष्मी लाल गमेती मौके पर पहुंचे मौके पर पाया कि एक पक्षी चाइनीस धागे में फंसा हुआ था स्थानीय लोगों ने बताया कि पेड़ पर चाइनीस धागे से एक पक्षी बहुत बुरी तरह से फंस गया था स्थानीय लोगों ने बड़ी मशक्कत कर इस पक्षी को पेड़ से उतारा। 

सेंटर अध्यक्ष चमन सिंह चौहान ने बताया कि यह दुर्लभ पक्षी का नाम एशियाई यूली नेट स्टॉक है यह पक्षी पर्यावरण के संरक्षण के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। यह पक्षी तालाबों दलदली जवारिया कीचड़ धान के खेतों के  नजदीक मिलता है। इस पक्षी का मुख्य भोजन मछली मेंढक छिपकली सांप व मृत मवेशी के नजदीक भी देखा गया है। 

ऐसे दुर्लभ पक्षी देखने को नहीं मिलते हैं वही उदयपुर में चाइनीस धागे से घायल होकर मर रहे हैं। संस्था अध्यक्ष ने बताया कि पिछले 15 वर्षों से चाइनीस धागे पर प्रतिबंध की मांग कर रहे हैं बावजूद उसके चाइनीस धागा धड़ल्ले से दुकानों में बिक रहा है। सरकार हर साल आश्वासन देती है कि चाइनीस धागे पर प्रतिबंध कर दिया गया है।  

पहले मेवाड़ में निर्जला एकादशी पर पतंगबाजी होती थी लेकिन पिछले कुछ वर्षों से उदयपुर में मकर सक्रांत पर पतंगबाजी का प्रचलन चालू हो गया। घायल पक्षी का चेतक सर्कल स्थित पशु चिकित्सालय में इलाज करा कर गुलाब बाग स्थित बर्ड पार्क में वन विभाग को सुपुर्द किया गया। 
 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  WhatsApp |  Telegram |  Signal

From around the web