नसबंदी के दौरान महिला की मौत, मुआवजे की मांग को लेकर दुसरे दिन भी हंगामा


नसबंदी के दौरान महिला की मौत, मुआवजे की मांग को लेकर दुसरे दिन भी हंगामा 

दूसरे दिन भी मौके पर पुलिस ने किया मामला शांत

 
uproar
UT WhatsApp Channel Join Now

उदयपुर 8 सितंबर 2022 । बड़गांव स्थित सरकारी अस्पताल में मंगलवार को एक महिला का प्रसव हुआ उसके बाद NM (आंगनवाड़ी कार्यकर्ता) अनीता सेन  नसबंदी करवाने के लिए पुला स्थित अस्पताल लेकर गई जहां ऑपरेशन के दौरान महिला की तबीयत बिगड़ गई तो डॉक्टर ने महिला को शहर के एक अन्य अस्पताल में रेफर किया परिजन महिला को निजी हॉस्पिटल पहुंचे, वहां डॉक्टरों ने जांच के बाद महिला को मृत घोषित कर दिया जिसके बाद परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया।

परिजनों का आरोप है की एएनएम (NM)  कार्यकर्ता ने बिना परिजन को बताएं महिला की नसबंदी करवाई गई। घटना के बाद एएनएम (NM) कर्मचारी अनिता सेन ने मौके से फरार हो गई और अपना फोन भी बंद कर दिया। 

मृतक महिला के परिजनों ने आरोप लगाया कि एएनएम (NM) कार्यकर्ता कि गिरफ़्तारी ओर मुआवजे कि मांग को लेकर मृतक महिला वेली बाई के समाजजन ओर परिजनो ने घटना के दूसरे दिन भी हॉस्पिटल के बाहर जम कर प्रदर्शन किया। परिजनों का आरोप हैं कि एनएम कार्यकर्ता अपने कमीशन के लालच में महिला की नसबंदी कराने को लेकर अन्य अस्पताल में लेकर गई जहां ऑपरेशन करते समय हालत बिगड़ गई और महिला की मौत हो गई ऐसे में परिजनों को मुआवजे की मांग को लेकर अड़े गए और हंगामा शुरू कर दिया ।

हंगामे कि जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची, काफ़ी देर समझाइश करने के वाद मामला शांत किया गया। जानकारी के अनुसार, मुआवजे कि बात को लेकर समाज के लोगों से बातचीत कि गई थी, ओर शव को भी मुर्दाघर में शिफ्ट कर दिया गया हैं।

गौरतलब हैं कि बुधवार को 35 वर्षीय आदिवासी महिला का एनेसथिसिया के ओवरडोज़ से मौत होने का मामला सामने आया था। मृतक महिला के परिजनों ने एक आंगनवाड़ी कार्यकर्ता अनीता सेन पर मृतक महिला को कमिशन के लालच में सरकारी हॉस्पिटल से निकाल कर नसबंदी के लिए पुला स्थित एक निजी हॉस्पिटल (जननी सुरक्षा ) में ले जाने ओर ऑपरेशन के दौरान गड़बड़ी से उसकी मौत होने का आरोप लगाया था, उन्होंने शहर के एक जाने माने हॉस्पिटल पर भी उंगली उठाई थी हालांकि कि बाद  में यह बात सामने आई कि जब महिला को पुला स्थित निजी हॉस्पिटल से रेफेर किया गया तो उसकी हालत नाजुक थी और उस हॉस्पिटल ने आनन फानन में उसे दूसरे हॉस्पिटल में रेफर कर दिया, जहां रास्ते में ही उसकी मौत हों गई। दूसरे हॉस्पिटल में पहुँचने पर डॉक्टर्स ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मृत महिला मेहरो का गुडा इलाके कि रहने वाली थी,4 बेटियों के बाद 2 दिन पूर्व उसने एक लड़को को जन्म दिया, लड़का होने से परिवार में ख़ुशी का माहौल था लेकिन कुछ घंटो में वो मातम में बदल गया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal