सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मावली ने हासिल किया लक्ष्य सर्टिफिकेशन

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मावली ने हासिल किया लक्ष्य सर्टिफिकेशन

राज्य का दूसरा एवं जिले का पहला स्वास्थ्य केंद्र जिसने यह गौरव प्राप्त किया

 
MAVLI

600 चेकप्वाइंट के आधार पर मूल्यांकन किया गया

आमजन को दी जाने वाली चिकित्सकीय सेवाओं मे निरंतर गुणवत्ता सुधार हेतु केंद्र एवं राज्य स्तर की टीमों द्वारा विभिन्न मापदंडों के अनुरूप स्वास्थ्य केंद्रों का मूल्यांकन किया जाता है जिसमें उपलब्ध सेवाओं की गुणवत्ता के साथ साथ मानकों का पालन, क्लाइंट सेटिस्फेक्शन जैसे महत्वपूर्ण पहलुओं को भी शामिल किया जाता है।
 

इन्ही कार्यक्रमों के अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मावली ने लेबर रूम लक्ष्य कार्यक्रम के तय 5 मापदंडों में से 4 को पूरा कर 83% स्कोर के साथ स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार की ओर से दिए जाने वाले प्रमाण पत्र को कंडीशनलिटी के साथ हासिल करने में सफलता अर्जित की है।
 

गौरतलब है कि मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य के सुदृढ़ीकरण के लिए भारत सरकार की ओर से 2017 में शुरू किए गए लक्ष्य कार्यक्रम में लेबर रूम में दी जाने वाली विभिन्न सेवाओं में 70% से अधिक अंक हासिल करने होते हैं।
 

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर दिनेश खराड़ी ने बताया कि 22 अक्टूबर 2021 को भारत सरकार की सदस्यी टीम द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मावली का मूल्यांकन किया गया था। टीम द्वारा स्वास्थ्य केंद्र के लेबर रूम के 8 प्रमुख एरिया में दी जाने वाली सेवाओं में मानकों का पालन, सेवाओं की गुणवत्ता, मरीजों को दी जाने वाली सुविधाएं, क्लीनिकल सेवाओं में दक्षता, संक्रमण प्रबंधन इत्यादि से जुड़े 600 चेकप्वाइंट के आधार पर मूल्यांकन किया गया।
 

उन्होंने बताया कि लक्ष्य प्रमाण पत्र हासिल करने के बाद सरकार की तरफ से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को 3 लाख रूपए की राशि प्रोत्साहन स्वरूप प्राप्त होगी जिसे लेबर रूम की व्यवस्थाओं को और सुदृढ़ करने में उपयोग लिया जाएगा।
 

डॉक्टर खराड़ी ने बताया कि सीएचसी मावली भारत सरकार द्वारा राज्य में लक्ष्य कार्यक्रम के अंतर्गत यह सर्टिफिकेशन प्राप्त करने वाला राज्य का दूसरा स्वास्थ्य केंद्र है इससे पहले केवल एक ही चिकित्सा संस्थान को यह सर्टिफिकेशन हासिल हुआ है।
 

सीएचसी मावली के लक्ष्य प्रमाण पत्र हासिल करने में संस्थान के चिकित्सकों, नर्सिंग कर्मियों एवं अन्य कर्मचारियों का अहम योगदान रहा है इसके साथ ही जिला स्तर से आरसीएचओ डॉक्टर अशोक आदित्य, जिला कोचिंग के सदस्यों एवं डेवलपमेंट पार्टनर यूएनएफपीए के जिला सलाहकार मोहम्मद हुसैन बोहरा द्वारा स्वास्थ्य केंद्र का समय-समय पर निरीक्षण कर मार्गदर्शन प्रदान करने में महत्वपूर्ण योगदान रहा है।
 

जिला कलेक्टर चेतन देवड़ा ने लक्ष्य सर्टिफिकेशन मिलने पर संस्थान के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के साथ साथ पूरे जिले की मेडिकल टीम को बधाई दी एवं चिकित्सा संसथान में गुणवत्ताओ को निरंतर बनाए रखने की अपेक्षा जताई।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal