धरे रह गए एग्जिट पोल, कांग्रेस ने बीजेपी ही नहीं जेडीएस के मंसूबो पर भी फेरा पानी


धरे रह गए एग्जिट पोल, कांग्रेस ने बीजेपी ही नहीं जेडीएस के मंसूबो पर भी फेरा पानी

कर्नाटक में कांग्रेस को 135, भाजपा को 66 और जेडीएस 19 और अन्य को 4 सीट

 
Congress re-captures Karnataka Assembly in 2023 All Eyes on New Chief Minister as BJP Concedes Defeat
UT WhatsApp Channel Join Now

आज कर्नाटक के चुनाव नतीजे सामने आ गए है और कुल 224 सीटों में से कांग्रेस ने 135 सीट हासिल कर बहुमत हासिल कर लिया है। जबकि बहुमत का आंकड़ा 113 है। भाजपा को 66 सीट तथा जेडीएस को 19 सीट मिली है जबकि अन्य एवं निर्दलियो को 4 सीट मिली है। 

दो दिन पहले अधिकांश एग्जिट पोल में त्रिशंकु विधानसभा के संकेत मिल रहे थे। लेकिन वास्तविक नतीजों ने न सिर्फ एग्जिट पोल के आंकड़ों बल्कि भाजपा को भी चित किया। यहीं नहीं एग्जिट पोल में हंग असेंबली के संकेत मिलने के बाद किंगमेकर बनने का ख्वाब देख रही जेडीएस को भी कांग्रेस ने बड़ा झटका दिया। 

उदयपुर में भी कर्नाटक विधानसभा चुनाव 2023 में कांग्रेस की प्रचंड जीत के बाद शनिवार को प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता एवं कांग्रेस मीडिया सेंटर के जिलाध्यक्ष पंकज कुमार शर्मा के नेतृत्व में ढोल नगाड़ों के साथ आतिशबाजी करके जश्न मनाया। इस अवसर पर कांग्रेस पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने एक दूसरे को लड्डू खिलाकर जीत की बधाई देते हुए कांग्रेस पार्टी जिंदाबाद, सोनिया गांधी, राहुल गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे, अशोक गहलोत जिंदाबाद के नारे लगाए।

congress celebration in udaipur

शर्मा ने कहा कि यह जीत लोकतंत्र में बड़े बदलाव की शुरुआत है। राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा के द्वारा लोकतंत्र एवं संविधान को मजबूत करने का जो प्रण लिया है वह इस जीत के साथ साकार होता हुआ दिख रहा है। शर्मा ने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की महंगाई राहत योजना का कर्नाटक चुनाव में बड़ा योगदान रहा है। राजस्थान में अशोक गहलोत चौथी बार मुख्यमंत्री बनेंगे। इस अवसर पर अशोक तम्बोली, सुभाष चितोड़ा, प्रमोद वर्मा, सुधीर जोशी, भगवती प्रजापत, कपिल वसीटा, संजय मन्दवानी, उमेश शर्मा, नाथू सिंह राठौर, उस्मान खान, वसीम खान, डॉ. संदीप गर्ग, राजवीर मेघवाल, जय देव पंडा, धीरज तलरेजा सहित बड़ी संख्या मे कांग्रेस के पदाधिकारी एवं कार्यकर्तागण उपस्थित थे। 
 

नतीजों और वोट शेयर पर गौर किया जाये तो कांग्रेस को 2018 में जहाँ 38.04 फीसदी वोट मिले थे वहीँ 2023 में 43.2 फीसदी वोट मिले यानि कांग्रेस को 5 फीसदी वोट अधिक मिले वहीँ जेडीएस के वोट शेयर में 5 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। जेडीएस को 2018 के 18.36 फीसदी के मुकाबले 2023 में 13.3 फीसदी वोट ही मिले। भाजपा को 2018 में 36.22 फीसदी वोट मिले थे जबकि 2023 में 35.6 फीसदी मिले यानि भाजपा के वोट शेयर में मामूली गिरावट ही दर्ज हुई हालाँकि पिछले चुनाव के मुकाबले 38 सीटों को नुक्सान हुआ। सबसे अधिक नुक्सान जेडीएस को हुआ पिछली बार उन्हें 37 सीट मिली थी लेकिन इस बार 19 पर ही अटक गई यानि लगभग उनकी सीट आधी रह गई। 

कर्नाटक को राजनीतिक रूप से 6 भागों में बंटे कर्नाटक का लेखा जोखा 

1. बेंगलुरु कर्नाटक- कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु और आस-पास के इलाके में 36 सीट है। यहां इस बार बीजेपी को पांच सीटों को फायदा हुआ है भाजपा को यहाँ से 16 सीट मिली, जबकि कांग्रेस को 2 सीटों के फायदे के साथ 19 सीटें मिली। 2023 के नतीजों में इस इलाके में जेडीएस को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। यहां से जेडीएस की 6 सीटें कम हो गईं। पिछली बार यहाँ से 7 सीट मिली थी जबकि इस बार केवल 1 सीट मिली। 

2. बाम्बे कर्नाटक- 50 सीटों वाला लिंगायत बहुल यह इलाका बीजेपी का गढ़ माना जाता है। 2023 के नतीजों में बीजेपी को यहां 14 सीटों का नुकसान हुआ है। पिछली बार भाजपा को यहाँ से 30 सीट मिली थी इस बार घटकर 16 रह गई। वहीं कांग्रेस को 16 सीटों का फायदा हुआ है। पिछली बार कांग्रेस को यहाँ से 17 सीट मिली थी जबकि इस बार यहाँ से कांग्रेस को 33 सीट मिली है। जेडीएस को यहाँ से 1 सीट मिली है।  जबकि पिछली बार 2 सीट मिली थी। 

3. सेंट्रल कर्नाटक- 36 सीटों वाले इस इलाके में 2018 में बीजेपी को यहीं से सबसे ज्यादा सीटें मिली थी, पिछली बार बीजेपी को 36 में से 24 सीट मिली थी लेकिन 2023 के चुनाव में बीजेपी को यहां से 6 सीटों के नुकसान के साथ 10 सीट मिली। कांग्रेस ने 2018 के मुकाबले दोगुनी से अधिक सीटें जीतीं। पिछली बार कांग्रेस ने यहाँ से 12 सीट जीती थी इस बार कांग्रेस ने यहाँ से 26 सीट जीती। जेडीएस को भी यहाँ से कोई सीट नहीं मिली जबकि पिछली बार यहाँ से उन्हें दो सीट मिली थी।  

4. कोस्टल कर्नाटक-21 सीटों वाले इस इलाके में भी बीजेपी को नुकसान हुआ है और कांग्रेस को फायदा हुआ है। 2018 में यहाँ से कांग्रेस को 3 सीट मिली थी इस बार उन्हें 8 सीट के साथ 5 सीट का फायदा हुआ है। भाजपा को पिछली बार यहाँ से 18 सीट मिली थी जबकि इस बार उन्हें 12 सीट मिली है यानि 6 सीट मिली। इस बार जेडीएस को भी यहाँ से 1 सीट मिली जबकि पिछले जेडीएस को यहाँ से कोई सीट नहीं मिली थी। 

5. हैदराबाद कर्नाटक- 31 सीटों वाले इस क्षेत्र में कांग्रेस 20 सीट मिली है पिछली बार उन्हें 15 सीट मिली थी यानि 5 सीट का फायदा यहाँ से हुआ। इस इलाके में बीजेपी की सीटें 12 से घटकर 8 रह गई हैं। और जेडीएस की सीटे 4 से घटकर 1 रह गई हैं।

6. ओल्ड मैसूरु- 50 सीट वाला वोक्कालिगा बहुल क्षेत्र जेडीएस का गढ़ रहा है। 2023 के नतीजों में यहां से जेडीएस को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ। उसकी सीटें 14 से घटकर महज 2 रह गई हैं। यहां कांग्रेस को सबसे ज्यादा फायदा मिला। इसी इलाके में राहुल गांधी ने भारत जोड़ो यात्रा की थी। कांग्रेस को पिछली बार यहाँ से 15 सीट मिली थी जबकि इस बार 30 सीट मिली है। भाजपा को भी यहाँ नुकसान उठाना पड़ा है। इस इलाके में भाजपा की सीट 9 से घटकर 4 रह गई। 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal