shopkeepers getting upset by road uprooted

पूर्व मेयर कोठारी की दुकान के सामने खोदी रोड, परेशान हो रहे दुकानदार

पूर्व मेयर कोठारी की दुकान के सामने खोदी रोड, परेशान हो रहे दुकानदार 

2009 की परमिशन को लेकर उठा मुद्दा, राजकीय सम्प्पति को नुक्सान पहुचाने की आई बात

 
road

उदयपुर नगर निगम के पूर्व मेयर चंदर सिंह कोठारी की सूरजपोल इस्थित दूकान के सामने रोड खोदने का मामला सोमवार को समाने आया है। 

दरअसल सोमवार को रिलाइंस कंपनी द्वारा रोड में इन्टरनेट फाइबर केबलिंग के काम के मद्दे नजर रोड को जेसीबी की मदद से खोद कर काम किया जा रहा था। सभी ने सरकारी काम को देखते हुए अपनी गाड़ियाँ रोड से हटाली जिसके बाद वहां मौजूद इंजिनियर और मजदूरों की टीम ने सड़क को खोदकर काम करना शुरू कर दिया, लेकिन जब वहां दुकानदार के रूप में मौजूद पूर्व मेयर कोठारी ने जब मौके पर मौजूद लोगों से काम के बारे में पूछा तो वह कोई संतोष जनक जवाब नहीं दे पाए, और कुछ देर बाद काम को करने की परमिशन होने की बात कही और आर्डर की कॉपी भी कोठारी को दिखाई। 

इस बारे में जब वहां मौजूद रिलाइंस के इंजिनियर श्रीकांत से इस काम की परमिशन के बारे में पूछा गया तो आर्डर की कॉपी दिखाते हुए उन्होंने कहा की उन्हें ये काम नगर निगम द्वारा इजाजत के साथ दिया गया है, इसी पूरा करने की कोई डेड लाइन नहीं दी गई है, उन्होंने बताया की उन्हें ये काम मई 2009 में मिला था जिसके मुताबिक उदयपुर शहर में 60 किलोमीटर के क्षेत्र में फाइबर लाइन डालने का काम पूरा करना है, लेकिन आर्डर के मुताबिक इस काम को पूरा करने के लिए कोई निर्धारित समय की अवधि ते नहीं की गई है, न ही आर्डर में इसका कोई जिक्र है. श्रीकांत का कहना है की जब भी उनके अधिकारीयों द्वारा आर्डर एक्सटेंशन के लिए निगम में संपर्क किया गया तो उन्हें मना कर दिया गया। 

वहीँ पूर्व मेयर चंदर सिंह कोठारी का कहना है की सोमवार सुबह जब वो दूकान पर आए तो उन्होंने देखा की वहां जेसीबी की मदद से रोड को खोदने का काम चल रहा था, सारी गाड़ियाँ भी हटाई गई थी, शुरुआत में सभी ने राजकीय काम मानते हुए सहयोग किया और अपनी गाड़ियाँ भी हटा ली, लेकिन बाद में जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने रिलाइंस जिओ की 5 जी केबल को रोड के नीचे डालने का काम बताया। जब उन्होंने जागरूक नागरिक होने के नाते काम को करने की परमिशन के बारे में पूछा तो उन्होंने परमिशन होने की बात कही और परमिशन के लिए आर्डर की कॉपी भी दिखाई, लेकिन उस पर मई 2009 की तारीख लिखी थी, जिस पर कोठारी ने उन्हें परमिशन टाइम बाउंड् (Time Bound) होने की बात कही और निगम के अधिकारीयों से भी इस के बारे में बात की तो उन्होंने परमिशन नहीं होने की बात कही और साथ में ये भी कहा की रोड खोदने की परमिशन सिर्फ कच्चे के लिए होती है और रोड को बीच मे से खोदने की किसी परमिशन देने की बात से इनकार किया। 

कोठारी ने बाते की कुछ देर बाद निगम का कोई कर्मचारी भी मौका मुआएना करने के लिए आया जिसको देख कर उन्होंने काम को बंद कर दिया, लेकिन उसके जाने के कुछ समय बाद ही काम फिर से शुरू कर दिया। कोठारी ने निगम के अधिकारीयों से ये भी कहा की बिना स्वीकृति के राजकीय संपत्ति को नुक्सान पहुंचाता है तो उन पर कार्य वही होनी चाहिए। कोठारी ने कहा की फिलहाल सभी दुकानदारों ने मिलकर काम बंद करवाया है और निगम के अधिकारीयों को भी इस मुद्दे पर ध्यान देना चाहिए। 

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on  GoogleNews | WhatsApp | Telegram | Signal

From around the web