टाउन वेंडिंग कमेटी ने सर्वे को अस्वीकार किया

टाउन वेंडिंग कमेटी ने सर्वे को अस्वीकार किया

कंपनी द्वारा किये गये सर्वे के आधार पर न्युनतम 1878, अधिकतम 2819 ठेला लगने का बताया है। जबकि 2015 के सर्वे में ही 3050 ठेला बताये गये थे

 
town ending committe
सर्वे के नाम पर ठेला व्यवसायी मजदुरों को बेदखल करना चाहते है - टाउन वेंडिंग कमेटी सदस्य कुमावत

उदयपुर। ठेला व्यवसायी मजदुर यूनियन (सीटू) की बैठक युनियन अध्यक्ष राव गुमान सिंह की अध्यक्षता में शिराली भवन, माछला मगरा में हुई। बैठक में टाउन वेंडिंग कमेटी सदस्य धर्मेंद्र कुमावत व बंशीलाल चौहान ने नगर निगम उदयपुर द्वारा कंपनी से ठेला व्यवसायियों को व्यवस्थित करने के नाम पर कराये जा रहे अभियान तथा नव निर्वाचित टाउन वेंडिंग कमेटी सदस्यों की बैठक में रखी गई, योजना के बारे में बताया। कंपनी द्वारा किये गये सर्वे के आधार पर न्युनतम 1878, अधिकतम 2819 ठेला लगने का बताया है। जबकि 2015 के सर्वे में ही 3050 ठेला बताये गये थे। कमेटी ने सर्वसम्मति से सर्वे को अस्वीकार कर दिया है। 

युनियन सरक्षक राजेश सिंघवी ने कहा कि टाउन वेंडिंग कमेटी में केवल 10 पथ विक्रेता चुने गये है, जबकि अन्य 15 सदस्यों की नियुक्ति होना बाकी है। पुर्ण टाउन वेंडिंग कमेटी का गठन किये बगैर कोई भी फैसला गैरकानूनी है। एक तरफ नगरनिगम के पदाधिकारी 10000 पथ विक्रेता होने का दावा करते है तो दुसरी तरफ सर्वे में केवल 2819 पथ विक्रेता चिन्हित करते है। ऐसे में 7000 ठेला वाले कहां जायेंगे। 

यूनियन के अध्यक्ष राव गुमानसिंह ने कहा कि टाउन वेंडिंग कमेटी का अध्यक्ष नगर निगम आयुक्त होता है, जबकि उप-महापौर अवैध रूप से न केवल बैठक में शामिल होते है, बल्कि बैठक का संचालन भी कमेटी के अध्यक्ष की तरह करते है। उन्होंने कहा कि नगर निगम आयुक्त को पूर्ण स्वतंत्र होकर बिना किसी दबाव के काम करना चाहिए। 

टाउन वेंडिंग कमेटी सदस्य धर्मेंद्र कुमावत ने कहां कि पुर्ण टाउन वेंडिंग कमेटी गठन के बगैर कंपनी के सर्वे के आधार पर,मनमाने तरीके से वेंडिंग-नो वेंडिंग जोन तय करने का खेल चल रहा है और  इस खेल के पीछे नगर निगम उदयपुर ठेला व्यवसायी मजदुरों को बेदखल कर, रोजगार छीनना चाहती है।         

यूनियन के उपाध्यक्ष मोहम्मद निजाम ने कहा कि कंपनी की बजाय पुर्ण टाउन वेंडिंग कमेटी का गठन कर, नगर निगम द्वारा सर्वे किया जाएं। उन्होंने कहा कि मुख्य सड़कों और पर्यटक स्थलों से ठेला फुटपाथ व्यवसाईयो को हटाने की योजना बनाई जा रहीं है, जो हमे मंजूर नहीं । उन्होंने कहा कि 11 फीट चौड़ी सड़क तक व्यवसाय कर रहे ठेला व्यवसाईयो को हटाने की योजना बनाना गलत है क्योंकि लगभग एक हजार ठेला फुटपाथ व्यवसाई 11फीट से कम चौड़ी सड़क पर अपना व्यवसाय कर रहे है।

टाउन वेंडिंग कमेटी सदस्य बंशीलाल चौहान ने कहां कि शाकाहारी और मांसाहारी के नाम पर पथ विक्रेताओं तथा जगह-जगह सरस डेयरी बुथ लगाकर गरीब को गरीब से लड़ाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरस डेयरी बुथ पर केवल सरस डेयरी उत्पाद ही बेचे जाने चाहिए लेकिन वहा सब कुछ बेचा जा रहा है। मोहिनी माली ने कहा कि भाजपा द्वारा सत्ता के बल पर पथ विक्रेताओं का दमन, किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जाएगा।       

रानू सालवी ने कहा कि उप महापौर द्वारा बार बार ठेला व्यवसाईयो को अवैध बता उनका अपमान किया जा रहा है और व्यवस्था बनाने में नाकामयाब होने जा ठीकरा ठेला व्यवसाईयो पर फोड़ा जा रहा है जबकि शहर में जहाँ जहाँ भी ठेले वालों को हटाया जाता है, वहां कार स्टेंड बन जाता है। उन्होंने कहा कि नगर निगम के भाजपा बोर्ड को ठेले वालों की पेट की आग से नहीं खेलना चाहिए।

बैठक में सीटू राज्य कमेटी सदस्य हीरालाल सालवी, संतोष सालवी ,योगेश, रानी माली, नीमनाथ, मोहम्मद शाहिद, ओमप्रकाश, तुलसी बाई, जमना खटीक, भगवती, मिठ्ठु बाई, कैलाश मोई उपस्थित रहे।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal