पूर्व सीएम वसुन्धरा राजे का उदयपुर में दो दिवसीय दौरा

पूर्व सीएम वसुन्धरा राजे का उदयपुर में दो दिवसीय दौरा 

आज सुबह फतहसागर स्थित नीलकंठ महादेव मंदिर में पूजा अर्चना की

 
vasundhra raje

पूर्व मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे दो दिवसीय दौरे पर उदयपुर में है। वसुंधरा राजे सोमवर सुबह फतह सागर के समीप नीलकंठ महादेव मन्दिर पहुंची जहा विधिवत पूजा अर्चना की । सावन मास के चलते राजे ने आज नील कंठ महादेव मन्दिर में पूजा अर्चना की है। वही राजे अब लसाडिया में एक कार्यक्रम में शामिल होने जाएगी। लसाडिया के पूर्व विधायक स्व गोतम लाल मीणा की मूर्ति अनावरण का कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है जहा राजे शिरकत करेंगी।

पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे सिंधिया निम्बाहेड़ा में एक दिवसीय दौरे पर रहीं। इस दौरान पूर्व यूडीएच मंत्री श्रीचंद कृपलानी एवं कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। सैकड़ों गाड़ियों के काफिले के साथ रोड शो किया। राजपूत समाज द्वारा 101 किलो की माला पहनाकर स्वागत किया। वहीं, राजे ने महाराणा प्रताप की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। 

इस दौरान राजे ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि बेफिक्र है हम, आपके जैसा किरदार रखते है, फिक्र तो वो करे, जो चेहरे दो-चार रखते है। राजे ने मंडी प्रांगण में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि रास्ते में जो इंदिरा गांधी रसोई दिखी थी। उसका पूर्व में क्या नाम था आज क्या नाम हो गया है। आज मुख्यमंत्री गहलोत खाली नाम बदलने की राजनीति करते हैं। भामाशाह कार्ड में हमने महिलाओं को मुखिया बनाया था जो हमने शुरू की थी उसका चिरंजीवी नाम रख कर दिया। ऐसे कितनी है योजनाएं थी जिसके अंदर हमने महिलाओं को सशक्त बनाया था। मगर कांग्रेस सरकार ने आते ही सबको चेंज कर दिया। 

राजे ने कहा कि हमने कितने ही बांध बनाए, कितनी नदियां जोड़ी, नदियों में छोटे-छोटे एनीकेट बनाए, जिससे धरती का जल स्तर बढ़ रहा है। आज हमारी कई योजनाओं ऐसी चल रही है जिनका आज भी लोगों की जुबान पर नाम नहीं जाता। 4 साल तक इन्होंने खिंचा तान की सरकार चलाई। कोरोना के समय भी सरकार ने जनता को बेसहारा छोड़ दिया था। जब भी हम विपक्ष में होते हुए भी मदद में कोई कसर नहीं छोड़ी केंद्र सरकार का जो पैसा आता था उन्हें भी रोककर बैठ गए।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal