Fellowship of Royal College to Dr. Mohit Goyal, a rheumatologist from Udaipur

उदयपुर के रह्यूमेटोलॉजिस्ट डॉ. मोहित गोयल को रॉयल कॉलेज की फ़ेलोशिप

उदयपुर के रह्यूमेटोलॉजिस्ट डॉ. मोहित गोयल को रॉयल कॉलेज की फ़ेलोशिप

 डॉ. गोयल 2017 से उदयपुर में गठिया एवं इम्यून रोग विशेषज्ञ के रूप में सेवाएं दे रहे हैं
 
dr mohit goyal

उदयपुर 8 नवंबर 2022 । उदयपुर के रह्यूमेटोलॉजिस्ट (गठिया व इम्यून रोग विशेषज्ञ) डॉ. मोहित गोयल को रॉयल कॉलेज ऑफ़ फिज़ीशियन्स ऑफ़ एडिनबरो (एडिनबर्ग) की और से फ़ेलोशिप के लिए चुना गया है, यह फ़ेलोशिप मेडिसिन व सम्बद्ध स्पेशलिटी के चिकित्सकों को क्लीनिकल, शिक्षण व रिसर्च कार्यों एवं जागरूकता अभियान में योगदान के लिए दी जाती है। 

डॉ. गोयल इस फ़ेलोशिप से सम्मानित होने वाले सम्पूर्ण राजस्थान के सबसे युवा डॉक्टर है। आरएनटी मेडिकल कॉलेज, उदयपुर से एम.बी.बी.एस. व एम.डी. मेडिसिन व एम्स, नई दिल्ली एवं फोर्टिस, नई दिल्ली से रह्यूमेटोलॉजी प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद डॉ. गोयल 2017 से उदयपुर में गठिया एवं इम्यून रोग विशेषज्ञ के रूप में सेवाएं दे रहे हैं।

इनके 24 शोध पत्र अंतर्राष्ट्रीय जर्नल्स में प्रकाशित किये गए हैं व इन्होंने विभिन्न रह्यूमेटोलॉजी पुस्तकों में 10 चैप्टर लिखे हैं। विश्व के टॉप रह्यूमेटोलॉजी जर्नल्स में प्रकाशित होने के अलावा इनके पेपर्स का नेचर, लैंसेट इत्यादि प्रतिष्ठित जर्नल्स में रेफरेन्स दिया गया है। 

dr mohit goyal

डॉ. गोयल ने ऑस्टिओआर्थरिटिस व अन्य आर्थराइटिस पर दो पुस्तकों एवं रह्यूमेटिक रोगों में श्वासन तंत्र की समस्याओं पर इंडियन जर्नल ऑफ़ रह्यूमेटोलॉजी के विशेषांक का भी सम्पादन किया है। वे इंडियन जर्नल ऑफ़ रह्यूमेटोलॉजी एवं रह्यूमेटोलॉजी एडवांसेज इन प्रक्टिस (ऑक्सफ़ोर्ड प्रकाशन) जर्नल्स के एडिटर भी हैं।

रोगियों को उनके रोग के बारे में जानकारी होना, उन्हें नियमित उपचार लेने के लिए प्रोत्साहित करता है, की सोच से 2017 में इन्होंने रोगी एवं परिजन जागरूकता कार्यक्रमों की शुरुआत की एवं कोविड काल में यह कार्यक्रम ऑनलाइन जारी रहा, कोविड लहर के दौरान जहाँ गठिया रोगियों में एक ओर अस्पताल आने को लेकर संशय था, वहीं गठिया बिगड़ने का भी भय था, ऐसे में डॉ. गोयल ने अन्य रह्यूमेटोलॉजिस्ट्स के साथ मिलकर ऑनलाइन सेमिनार द्वारा गठिया रोगियों को कोविद से बचाव, घर पर जोड़ों का ध्यान रखने, सही व्यायाम एवं कब टेली-कंसल्टेशन करना चाहिए, कब अस्पताल जाना चाहिए जैसी जानकारी दी।

dr mohit goyal

2019 में आर्थराइटिस सूचना वालंटियर कार्यक्रम जोड़ों के प्रहरी की शुरुआत की, जिसको कोविड से आए व्यवधान के बाद अब तेज़ी से बढ़ाया जा रहा है। कोविडकाल में गठिया रोगियों को आ रही परेशानियों पर भारत के पहले शोध का नेतृत्व डॉ. गोयल ने किया था एवं यह पत्र प्रख्यात यूरोपियन जर्नल ष्एनल्स ऑफ़ रह्यूमेटिक डिज़ीसेस में 2020 में प्रकाशित हुआ।

इन सभी उपलब्धियों का संज्ञान लेते हुए रॉयल कॉलेज द्वारा डॉ. गोयल को फ़ेलोशिप के लिए चुना गया है। यह उपाधि इन्हे नई दिल्ली में आयोजित विशेष समारोह में रॉयल कॉलेज के प्रेजिडेंट डॉ एंड्रू एल्डर द्वारा प्रदान की गयी।

फ़ेलोशिप समारोह के बाद रॉयल कॉलेज के प्रेसीडेन्ट, प्रोफेसर ऐंड्रू एल्डर ने डा. मोहित गोयल द्वारा असामान्य गठिया व जोड़ो के रोगों पर लिखित पुस्तक का विमोचन भी किया। उदयपुर से एक युवा चिकित्सक को यह प्रतिष्ठित फ़ेलोशिप मिलने से अंतर्राष्ट्रीय चिकित्सकीय एवं शोध पटल पर शहर की ख्याति बढ़ी है।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on  GoogleNews | WhatsApp | Telegram | Signal

From around the web