पैरालम्पिक स्विमिंग स्टार्स हौसले के समंदर में प्रतिभा का प्रदर्शन कर करेंगे अचंभित


पैरालम्पिक स्विमिंग स्टार्स हौसले के समंदर में प्रतिभा का प्रदर्शन कर करेंगे अचंभित

सम्पूर्ण भारत से 400 दिव्यांग तैराक पहुंचे, कल से राष्ट्रीय चैम्पियनशिप उदयपुर में

इस स्पर्धा के विजेताओं में से चीन में 2022 में हो रहे पैरा एशियन गेेम के लिए क्वालिफाई करेंगे

 
paralympic
UT WhatsApp Channel Join Now

पैरालिम्पिक कमेटी ऑफ इण्डिया एवं नारायण सेवा संस्थान के सांझे में आयोजन

पैरा ऑलम्पियन पद्म भूषण देवेन्द्र झाझरिया एवं अर्जुन अवार्डी कृष्णा नागर करेंगे शुभारम्भ

दृष्टि बाधित, बौद्धिक असक्षम एवं शारीरिक दिव्यांग लेंगे हिस्सा

उदयपुर 23 मार्च 2022 । पैरालिम्पिक कमेटी ऑफ इण्डिया एवं नारायण सेवा संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में महाराणा प्रताप खेलगांव स्थित तरण ताल परिसर में 25 से 27 मार्च तक 21वीं राष्ट्रीय पैरा स्विमिंग चैम्पियनशिप का आगाज होगा। जिसकी सभी आवश्यक तैयारियां पूरी कर ली गई है। इस आयोजन में देश के करीब 400 (पुरूष-महिलाएं) नामी पैरालम्पिक स्विमिंग स्टार्स हौसले के समंदर में प्रतिभा का प्रदर्शन कर अचंभित करेंगे। 

यह जानकारी देते हुए नारायण सेवा संस्थान के अध्यक्ष प्रशान्त अग्रवाल ने बताया कि झीलों की नगरी में दूसरी बार यह चैम्पियनशिप होने जा रही है। इससे पूर्व 17वीं राष्ट्रीय पैरा तैराकी स्पद्र्धा भी नवम्बर 2017 में संस्थान ने ही आयोजित की थी। इस ऐतिहासिक आयोजन के प्रति पूर्व की ही भांति दिव्यांग पैरा तैराकों के शिरकत करने व इनके अदम्य साहस व हौसले के जुनून को देखने के लिए खेल प्रेमियों में भारी उत्साह है। इसमें राजस्थान सहित दिल्ली, चंडीगढ़, गोवा, गुजरात, हरियाणा, झारखण्ड, बिहार, महाराष्ट्र, पंजाब, तमिलनाडु, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, पं. बंगाल, त्रिपुरा आदि 23 राज्यों से राष्ट्रीय पैरा स्विमर्स के आने का क्रम शुरू हो गया है। 

शहर में पैरा तैराकों के स्वागत के लिए जगह-जगह बैनर-हार्डिंग्स लगाए गए है। रेल्वे स्टेशन, बस स्टेण्ड व एयरोड्रम पर उनकी सहायता के लिए व्हील चेयर व वाहन के साथ कार्यकत्र्ता मौजूद है। आयोजन स्थल तरणताल व तैराकों के आवास स्थल बेरियर्स फ्री रखे गए है। खिलाड़ियों के आवास स्थल एवं आयोजन स्थल (खेलगांव-तरणताल) पर जहां आवश्यक हैं, वहां रैम्प बनाए गए है।

पैरा तैराकी के इस महाकुम्भ के सफल संचालन के लिए स्वागत समिति, आवास, वाहन, भोजन, प्रोटोकोल, पेयजल, विधुत, सफाई, प्राथमिक उपचार, भ्रमण आदि उपसमितियां अपनी जिम्मेदारियां का बखूबी निर्वहन कर रही है। तरणताल के चारों और दर्शकों के लिए छाया और तैराकों के बैठने, विश्राम व भोजन आदि के लिए विशेष व्यवस्था की गई है। खेलप्रमियों की सुविधा के लिए पूल साइड पर बड़ी स्क्रीन लगाई गई है, जिस पर सभी इवेंट का सजीव प्रसारण होगा। खेलगांव मैदान व तरणताल के आस-पास लाइटिंग व पार्किंग की भी खास व्यवस्था रहेगी।

पीसीआई के पैरा तैराकी चेयरमैन डाॅ. वी.के. डबास ने बताया कि 50 कोच व तकनीकी अधिकारी इस चैम्पियशनशिप में विभिन्न श्रेणियों में तैराकी स्पद्र्धाएं होगी। सीनियर वर्ग (15-17 वर्ष आयु वर्ग), सब जूनियर (12 से 14 वर्ष आयु वर्ग) तथा (एस 1-एस 10) कुल 10 वर्ग, दृष्टिबाधित श्रेणी में (एस-11-एस12) दो वर्ग होंगे जबकि मानसिक दिव्यांग श्रेणी में एस-14 वर्ग होगा। पीसीआई वल्र्ड पैरास्वीमिंग बाॅडी से मान्यता प्राप्त है। तथा पीसीआई के परिणाम अधिकृत व प्रमाणित है। चैम्पियनशिप मानक अन्र्तराष्ट्रीय तैराकी नियमों पर आधारित होगी। जिसमें सही समय व दूरी के मानक मापन के लिए ऑटोमेटिक ऑफिशिएटिंग इक्विमेंट (एवोई) का उपयोग शामिल है।

उन्होंने बताया कि इस तरह के आयोजनों से पैरा खिलाड़ियों का हौसला बढ़ता है और वे दिव्यांगता को चुनौती देते हुए अपने हौसले से जीवन को बुलन्दियों के आकाश से रूबरू करवाते है। इस आयोजन में पैरातैराकों के उत्साहवर्धन के लिए आयोजन समिति के आमंत्रण पर पैरामिम्पिक खेलों में दो स्वर्ण व एक रजत पदक विजेता देवेन्द्र झाझरिया एवं स्वर्ण पदक विजेता कृष्णा नागर आ रहे है।

श्री खेमचंद डबास मोमोरियल टीम चैम्पियनशिप ट्राॅफी उस राज्य को प्रदान की जाएगी, जो सर्वाधिक मैडल या अंक हासिल करेगा। तीनों आयु वर्ग के महिला-पुरूष वर्ग में से सर्वश्रेष्ठ तैराक भी चुने जाएंगे।  स्वीमिंग कोच महेश पालीवाल ने बताया कि सभी टीमें 23 मार्च अपराह्न तक उदयपुर पहुंच जाएगी। 24 मार्च को तरणताल परिसर में तैराकों के वर्गीकरण व वेरीफेकशन के साथ टीम प्रबंधकों, प्रशिक्षकों व अन्य ऑफिसर्स की बैठक होगी। 25 मार्च को सुबह 11.00 बजे चैम्पियनशिप का उद्घाटन देवेन्द्र झाझरिया एवं कृष्ण नागर सहित गणमान्य अतिथियों द्वारा किया जायेगा। चैम्पियनशिप का समापन समारोह 27 मार्च को 11.00 बजे होगा। संयोजक रविश कावड़िया,भगवान प्रसाद गौड़, विष्णु शर्मा हितैषी, रोहित तिवारी मौजूद रहे।

राजस्थान में तीसरी बार

नेशनल पैरा स्वीमिंग की शुरूआत अक्टूबर 2000 में ग्वालियर (म.प्र.) से हुई। जिसमें 16 राज्यों से 152 पैरा तैराकों ने भाग लिया। 16वीं चैम्पियनशिप 2016 में जयपुर में तथा 17वीं और 21वीं उदयपुर में दूसरी बार संस्थान के तत्वावधान में हो रही है।

तैराकों को सरकारी लाभ

राष्ट्रीय स्तर के पैरा तैराकों को राज्य व केन्द्र सरकार द्वारा सुविधाएं व पुरस्कार दिये जाते है। राजस्थान में नौकरी व नकद पुरस्कार, हरियाणा में 3 लाख का नकद पुरस्कार, म.प्र. में विक्रम अवार्ड के योग्य माना जाता है। कुछ राज्यों में एक या उससे अधिक मेडल प्राप्त करने वालों को सरकारी नौकरी दी जाती है।

पैरास्विमिंग में उच्च मानक

राष्ट्रीय पैरा स्वीमिंग चैम्पियनशिप में भी अब उच्च स्तरीय मानकों पर आधारित नियम अपनाएं जाते है। पीसीआई ने भी नए मानकों का निर्धारण किया है, लेकिन कोरोना के चलते इन्हें इस वर्ष लागू नहीं किया गया। 21वीं चैम्पियनशिप पुराने मानकों पर ही आधारित होगी।

पैरालिम्पिक में पदक संख्या बढ़ी

सन 2016  में  ब्राजील में आयोजित 15वें समर पैरालिम्पिक गेम में भारत के पैरा खिलाड़ियों ने 4 पदक हासिल किए थे। जबकि 2021 में टोकियों में सम्पन्न 16वें पैरालिम्पिक गेम में भारतीय पैरा खिलाड़ियों ने 19 पदक हासिल किए। हमें उम्मीद है कि 2024 में पेरिस (फ्रांस) में होने वाले पैरालिम्पिक में भारत अपने प्रदर्शन में और अधिक सुधार करेगा। पीसीआई का मानना है कि उदयपुर में हो रही 21वीं राष्ट्रीय पैरा स्विमिंग चैम्पियनशिप में सफल होने वाले तैराक 2022 में चीन में होने वाले पैरा एशियन गेम के लिए क्वालिफाई करेंगे।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal