जानिए सीनियर सिटीजन रेलयात्रियों को मिलने वाली विशेष सुविधाएं

जानिए सीनियर सिटीजन रेलयात्रियों को मिलने वाली विशेष सुविधाएं 

कुछ सुविधाओं का लाभ तो सीधे मिल जाता है, लेकिन कुछ का जानकारी के अभाव में जरूरतमंद लोग लाभ नहीं उठा पाते

 
trains

उदयपुर, 13 जनवरी। रेल में सफर के दौरान सीनियर सिटीजन को विशेष सुविधाएं दी जाती है। कुछ सुविधाओं का लाभ तो सीधे मिल जाता है, लेकिन कुछ का जानकारी के अभाव में जरूरतमंद लोग लाभ नहीं उठा पाते। प्रतिदिन 19 हजार से अधिक यात्री उदयपुर से आवागमन करते हैं। इनमें कई सीनियर सिटीजन भी होते हैं।

आइए जानते हैं टिकट के साथ सीनियर सिटीजन को क्या सुविधाएं मिलती है। रेलवे के नियमों के अनुसार 60 साल से अधिक वाले पुरुष और 58 साल से अधिक उम्र वाली महिलाएं सीनियर सिटीजन के दायरे में आती है। कोरोना से पूर्व रेलवे सीनियर सिटीजन को सभी श्रेणियों में छूट देता था। इसके तहत पुरुष वरिष्ठ नागरिकों के लिए 40 प्रतिशत और महिला वरिष्ठ नागरिकों के लिए 50 प्रतिशत छूट थी।

ट्रेन में सफर के लिए जब सीनियर सिटीजन रिजर्व टिकट खरीदते हैं तो उन्हें प्राथमिकता के आधार पर लोअर बर्थ अलॉट की जाती है। इसी तरह 45 साल से अधिक उम्र वाली महिला को भी कंप्यूटर ऑटोमैटिक तरीके से लोअर बर्थ दे देता है। हालांकि यह प्राथमिकता उपलब्धता के आधार पर ही मिलती है।

लोकल ट्रेन में भी रिजर्वेशन

कुछ बड़े शहरों में लोकल ट्रेन में भी वरिष्ठ नागरिकों और महिलाओं के लिए सीट आरक्षित होती है। इन शहरों में महिलाओं के लिए कोच भी आरक्षित होते हैं।

स्टेशन पर मौजूद रहती है व्हील चेयर

अधिकतर बड़े स्टेशनों पर व्हील चेयर की सुविधा है। इस सुविधा का लाभ लेने के लिए स्टेशन अधीक्षक, स्टेशन मास्टर आदि से संपर्क करना चाहिए। वे कुली के साथ व्हील चेयर उपलब्ध करवाते हैं। ऐसी परिस्थिति में कुली का चार्ज यात्री को वहन करना होगा। कुछ जगहों पर इसके लिए ऑनलाइन बुकिंग की सुविधा भी है।

आरक्षित रहती है सीटें

जिन ट्रेनों में रिजर्व सीटों की सुविधा है, उनके कोच में सीनियर सिटीजन और महिलाओं के लिए बर्थ आरक्षित होती है। स्लीपर कोच में छह लोअर बर्थ सीनियर सिटीजन के लिए रिजर्व होती हैं। एसी 3 टीयर, एसी 2 टीयर के कोच हैं तो उनमें तीन लोअर बर्थ वरिष्ठ नागरिकों के लिए आरक्षित होती हैं। इन्हीं बर्थ में 45 साल से ज्यादा उम्र वाली और गर्भवती महिलाओं को भी अकोमडेट किया जाता है। कुछ ट्रेनों में आरक्षित सीटों की संख्या अधिक होती है।

ले सकते हैं लोअर बर्थ

सीनियर सिटीजन को लोअर बर्थ लेने के लिए दो लोगों का टिकट ही बनवाना चाहिए। इससे कंप्यूटर को लोअर बर्थ देने में आसानी होती है। इसके अलावा अगर किसी सीनियर सिटीजन को रिजर्वेशन के वक्त लोअर बर्थ नहीं मिलती तो वे ट्रेन के रवाना होने के बाद यदि कोई लोअर बर्थ वेकेंट है तो टीटीई से संपर्क कर उसे अलॉट करने का अनुरोध कर सकते हैं। टीटीई कुछ औपचारिकताओं को पूरी करने के बाद बर्थ अलॉट कर सकता है।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal