14 साल के बेटे की हत्या के आरोप में गिरफ्तार मनीषा बना रही बार बार काल्पनिक कहानी

14 साल के बेटे की हत्या के आरोप में गिरफ्तार मनीषा बना रही बार बार काल्पनिक कहानी

घटना के बाद महिला पुलिस से ये पूछती रही कि उसका बेटा कहां है और कैसा है

 
manisha parikh
पुलिस ने कोर्ट में किया पेश

उदयपुर में खुद के 14 साल के नाबालिग बच्चे की हत्या करने वाली मां को लेकर पुलिस पूछताछ में पता लगा है कि मृतक बच्चे की मां मानसिक रूप से इतनी परेशान थी कि वह खुद से खुद ही अपने मन में एक काल्पनिक कहानी बनाती गई।

थानाधिकारी हनवंंत सिंह राजपुरोहित ने बताया कि परिजनों के मुताबिक मां मनीषा का बीते 5 साल से मानसिक अस्वस्थता के कारण इलाज चल रहा था। बीते 2 माह से उसने घरवालों को ये कहकर दवाई लेना बंद कर ​दिया था कि मुझे डॉक्टर को क्यों दिखा रहे हो, दवा क्यों दे रहे हो। मैं बीमार नहीं हूं। ऐसे में पुलिस ये मान रही है कि दवा बंद करने के बाद महिला की मानसिक स्थिति ​धीरे-धीरे बिगड़ती गई। वह खुद के मन ही मन में का​ल्पनिक कहानी बनाती गई। महिला की बातों से ऐसा लग रहा था कि उसे खुद के और बच्चे के साथ कोई अनहोनी होने का डर सता रहा था।

पति का किसी महिला से संबंध होने के संशय से मन में बनती रही काल्पनिक कहानी

उसको बार-बार ये संशय होता था कि उसके पति का किसी और महिला से संबंध है ऐसे में उसका और उसके बच्चे का क्या होगा। पुलिस ने जब महिला से पूछा कि उसके पति का किस महिला से संबंध है तो इस पर मनीषा बोली-महिला कौन है, कहां रहती है, इस बारे में उसे कुछ पता नहीं है।

एक दिन पहले घटना के बाद महिला पुलिस से ये पूछती रही कि उसका बेटा कहां है और कैसा है। इस पर पुलिस ने कह दिया था कि उसे हॉस्पिटल लेकर गए हैं। फिर रविवार शाम को पूछताछ में महिला ने वापस बेटे के बारे में पूछा, तब पुलिस द्वारा उसे ये बता दिया गया कि उसके बच्चे की मौत हो गई है।

कोर्ट में हुई पेशी, जेल भेजा

सोमवार को मृतक बच्चे की मां मनीषा पारीख को कोर्ट में पेश किया गया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया है। इस दौरान मनीषा के पिता भी कोर्ट में मौजूद थे। पुलिस के अनुसार मनीषा ने पूछताछ में ये कहा था कि उसके पिता ने उसको पैसों में बेच दिया है इस पर पुलिस ने पिता को जब ये बात बताई तो वह यह सुनकर स्तब्ध रह गए।

ये था पूरा मामला

एक दिन पहले अंबामाता थाना क्षेत्र के सहेली नगर इलाके में रहने वाली 37 वर्षिय मनीषा अपने 14 साल के मासूम बेटे पुरंजय पारीख की हत्या कर दी थी। घटना सुबह करीब 6:30 बजे की थी, जब पिता दीपक पारीख मॉर्निंग वाक पर गए थे। पीछे से मां ने कपड़े सुखाने वाली रस्सी से बेटे का गला घोंट दिया था। 

हत्या के बाद खुद ने ही पुलिस कंट्रोल रूम पर फोन कर बेटे को मारने की सूचना देते हुए कहा था कि मैंने मेरे बेटे को मार दिया है, जल्दी से पुलिस को भेजो। बाद मां ने खुद सुसाइड करने का प्रयास किया, इसलिए पुलिस के पहुंचने के बाद भी उसने कमरे का दरवाजा नहीं खोला। फर्स्ट फ्लोर पर मकान होने से पुलिस सीढ़ी लगाकर बालकनी तक पहुंची और दरवाजा खुलवाया।

To join us on Facebook Click Here and Subscribe to UdaipurTimes Broadcast channels on   GoogleNews |  Telegram |  Signal